गुप्त रोगों का डर दिखाकर शर्तिया इलाज़ करने वालों पर सरकार ख़ामोश क्यों है?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

गुप्त रोगों का डर दिखाकर शर्तिया इलाज़ करने वालों पर सरकार ख़ामोश क्यों है?

बड़ा सवाल : शर्तिया इलाज़ पर सरकार क्यों है ख़ामोश?
गुप्त रोगों का डर दिखाकर देश भर में नौजवानों को क्यों लूट रहें हैं मुस्लिम हकीम?
Muslim Nim-Hakim
   शीघ्रपतन, स्वप्नदोष और धात जैसी साधारण समस्याओं को गंभीर बीमारी बताकर देश भर में लाखों मुस्लिम हकीम नौजवानों को भ्रम में डालकर उनसे मनचाही रकम वसूल लेते हैं। ये नीम–हकीम नौजवानों को बिना प्रमाणित दवाइयां खिलाकर अन्जाने में उनके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को भी नष्ट कर देते है।  
Muslim Nim-Hakim
   एक बार कोई भी नौजवान इन हकीमो के जाल में फंस जाता है, तो उसे बताया जाता है की ‘तुम तो नामर्द हो’ ‘ये तो नामर्दी की निशानी है’ ‘अभी भी समय है तुम्हारी नामर्दी खत्म हो सकती है’ ‘हकीम साहब ने बड़े-बड़े नामर्दों को मर्द बनाया है’। मजबूर होकर नौजवानो को हकीमो पर विश्वास करना ही पड़ता है और बेचारे सोचते हैं ‘चलो एक बार इनको भी देख लेते हैं’। 
Muslim Nim-Hakim
डर और तनाव से जीवन बर्बाद 
     नौजवान भ्रम में आकर यौन समस्याओं को गंभीर बीमारी समझ लेते हैं और तनाव में आकर कई तरह की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं, जैसे यौन अंगों में ढीलापन, यौन क्रियाओं से दूर भागना और ताकत की कमी या शरीर का कमजोर हो जाना। एक साधारण और दिमाग से सम्बंधित परेशानी उनका पूरा जीवन बर्बाद कर देती है। तनाव में आकर बहुत सारे नौजवान नशा करने लगते हैं। 
Muslim Nim-Hakim
  शर्म एवं संकोच के कारण कोई भी नौजवान अपनी यौन सम्बंधित बीमारियों का जिक्र अपने परिवार में नहीं करता है और मजबूरन बड़े-बड़े एड देखकर इन हकीमो की शरण में चला जाता है और फिर ये हकीम इन्हें समझाने के बजाय गुप्त रोगों का डर दिखाकर 2-3 महीने की खुराक थमा देते हैं और मनचाही रकम वसूल लेते हैं।
Muslim Nim-Hakim
सभी नौजवानों में होती है ये परेशानियाँ
   हमारे देश की कुल आबादी में नौजवानों की आबादी सबसे अधिक है। शीघ्रपतन, स्वप्नदोष और धात जैसी साधारण समस्याएं युवावस्था में लगभग सभी को होती हैं। जो लोग इन बीमारियों के बारे में जागरूक रहकर अपने आचार, विचार और व्यवहार में सुधार कर लेते हैं उन्हें ना तो कोई समस्या होती है और ना ही वह इन फरेबी नीम हकीमो के चक्कर में आते हैं।
Muslim Nim-Hakim
देश भर में फैला हर हकीमो का जाल
    आपको बता दे की गुप्त रोगों का भ्रम फैलाकर नौजवानों को लूटने वाले इन नीम-हकीमो का जाल देश भर में फैला हुआ है। रेलवे लाइन के किनारे बने घर और उनकी दीवारें हकीमो के प्रचार का सबसे बड़ा अड्डा बन चुकी हैं। हकीम जुबैर, हकीम हाशमी, हकीम आलम, हकीम बंगाली, हकीम सलीम जैसे हजारों नाम रेलवे लाइन के किनारे आपको आसानी से मिल जाएंगे, जिनका बड़े-बड़े अक्षरों में प्रचार किया जाता है। सभी हकीम गुप्त लोगों को ठीक करने का दावा करते हैं। 
Muslim Nim-Hakim
  इनके एड (विज्ञापन) इतने आकर्षक होते हैं कि हर कोई सोचने के लिए मजबूर को जाता है कि कहीं उसे भी तो कोई गंभीर समस्या नहीं है। सबसे बड़े आश्चर्य की बात ये है कि 30-40 किलोमीटर के दायरे में हर घर की दीवार पर एक हकीम का एड (विज्ञापन) आपको दिख ही जाएगा। इसी बात से अंदाजा लग जाता है कि ये नीम–हकीम कितना पैसा प्रचार में खर्च करते होंगे और फिर कितना पैसा नौजवानों से वसूलते होंगे?
Muslim Nim-Hakim
पुलिस और प्रशासन सब सोते रहते हैं
    बड़े-बड़े अक्षरों में एड देने के बाद भी पुलिस और प्रशासन ना तो इन हकीमो के दवाखाने पर छापा मारते है और ना ही गुप्त रोगों को ठीक करने के उनके दावों की चिकित्सकीय जांच कर निगरानी करते है। पुलिस और प्रशासन की लापरवाही और हफ्ता वसूली के कारण ये नीम हकीम बड़े-बड़े शहरों में कहीं भी टेंट लगाकर बैठ जाते हैं और लाउड स्पीकर के जरिये नौजवानों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। 
Muslim Nim-Hakim
   हकीमो के पास बंद डिब्बों में हजारों तरह की दवाइयां होती हैं और बिना किसी प्रूफ के ये दवाइयां नौजवानों को खिला दी जाती है। हजारों नौजवानों के शरीर में इन दवाइयों का रिएक्शन भी हो जाता है लेकिन जब तक नौजवान वापस हकीमो के पास पहुँचते है उनका टेंट वहां से गायब हो चुका होता है क्यूंकि हकीमो का केवल एक ही उसूल है “अपना काम बनता, भाड में जाए जनता”।
Muslim Nim-Hakim
क्या हैं गुप्त रोग ?
   गुप्त रोग केवल डराने के लिए पैदा किये गए हैं। स्वप्नदोष, शीघ्रपतन, धात निकलना, पेशाब में जलन आदि नाम हकीमों द्वारा पैदा किये गए हैं। यौन अवस्था में युवाओं के शरीर में सेक्स हॉर्मोन्स (Testosterone) का निर्माण बहुत तेज गति से होता है। जो भी नौजवान समय से पहले यौन सुख का आनंद लेना चाहते हैं और अपनी इच्छाओं को काबू में नहीं रख पाते है, उनके सेक्स हॉर्मोन का लेवल नींद में या यौन क्रिया के वक्त बढ़ जाता है जिसने उन्हें स्वप्नदोष या शीघ्रपतन की परेशानी हो जाती है।
Muslim Nim-Hakim
  जो नौजवान अपनी इच्छाओं को काबू में कर लेते हैं या यौन क्रिया के वक्त जल्दबाजी नहीं करते उनकी यौन सम्बन्धी सभी समस्याएं अपने आप समय के साथ खत्म हो जातीं है। यौन संबंधों के वक्त सेक्स हॉर्मोन (Testosterone) का स्त्राव होता है। अविवाहित लोगों में सेक्स हारमोंस का स्त्राव ना होने के कारण उनके पेशाब के रास्ते में जलन होने लगती है और कभी-कभी धात की समस्या भी हो जाती है। ये सब समस्याएं केवल एक निश्चित समय के लिए होती हैं और सही खान-पान बनाये रखने से शरीर में कोई भी कमजोरी नहीं आती है। हालाँकि विवाह होने के बाद ये सभी समस्याएँ अपने आप ख़त्म हो जाती है।

Ad Code