धूम्रपान से ज्यादा खतरनाक है लम्बे वक्त तक बैठे रहना

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

धूम्रपान से ज्यादा खतरनाक है लम्बे वक्त तक बैठे रहना

    नई दिल्ली।। ज्यादा देर तक किसी एक स्थान में बैठे रहने से उम्र घटती है। और इसके दुष्परिणाम धूम्रपान से भी ज्यादा घातक हो सकते हैं। एक इंटरनैशनल जरनल में छपे अध्ययन के अनुसार कुर्सी पर जमे रहने से अलग-अलग बीमारियों से मौत की आशंका 27 फीसदी और टेलिविजन देखने से होने वाली बीमारियों से मरने का खतरा 19 फीसदी होता है। शहरों में अधिकतर लोगों को घंटों ऑफिस में बैठकर काम करना पड़ता है और घर में लोग टीवी के सामने जमे रहते हैं। ऐसे में यहां खतरा और ज्यादा बढ़ जाता है। ऑर्थोपेडिक सर्जनों का मानना है कि ऐसी दिनचर्या, जिसमें लोग लंबे वक्त तक बैठे रहते हैं। और बैठे रहने की वजह से वे दिन में एक घंटा भी व्यायाम, योग या अन्य शारीरिक गतिविधियां नहीं करते हैं उनका शरीर स्लो होता जाता है। 
     ऑफिस में कुर्सी पर बैठकर काम करना पड़ता है इसलिए उनकी यह आदत ऑफिस जाने के बाद और बढ़ जाती है। मसल्स पर ज्यादा असर -अपोलो के ऑर्थोपेडिक स्पेशलिस्ट डॉ. यश गुलाटी ने बताया कि लंबे समय तक कुर्सी पर बैठने की वजह से सबसे ज्यादा परेशानी कमर और बॉडी के मसल्स को होती है। शुरुआत में कमर में दर्द होता है। बाद में इसका असर बॉडी के मसल्स पर भी पड़ता है। बैठे रहने की वजह से बॉडी में कोई एक्टिविटी नहीं होती, बंद कमरे में लंबे समय तक लोग रहते हैं तो सनलाइट नहीं मिलती, विटामिन डी की कमी होने लगती है, वजन बढ़ने लगता है।

Ad Code