Headline News
Loading...

Ads Area

बर्बादी की एक और खबर एक झटके में 1.79 लाख करोड़ रूपये हुए स्वाहा

शेयर बाज़ार में मचा हाहाकार
     बुधवार को शेयर बाज़ार में ऐसी तबाही मची कि 1.79 लाख करोड़ रुपए साफ़ हो गए. बीएसई में लिस्टेड सभी कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 143.64 लाख करोड़ रुपए से घटकर 145.43 लाख करोड़ रुपए पर आ गया.
    जो शेयर बाज़ार हाल तक उछल रहे थे, अब दर्द से कराह रहे हैं. बेंचमार्क इंडेक्स क़रीब डेढ़ फ़ीसदी गिरकर बंद हुआ. दूसरी तरफ़ रुपए की पिटाई भी जारी है, जो डॉलर की तुलना में 73.34 पर पहुंच गया है.
     सोमवार को अच्छी-ख़ासी पिटाई के बाद बुधवार को एक बार फिर कच्चे तेल के बढ़ते दाम और कमज़ोर होते रुपए ने बेंचमार्क इक्विटी इंडेक्स पर ख़ासा दबाव बनाया. 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 550.51 अंक या 1.51 फ़ीसदी घटकर 35975.63 पर बंद हुआ जबकि निफ़्टी 150.05 अंक या 1.36 फ़ीसदी गिरकर 10858.25 पर बंद हुआ.
     दरअसल वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल के दाम बढ़ने की वजह से आयातकों के बीच अमरीकी करेंसी की काफ़ी मांग देखने को मिली, जिसकी वजह से रुपया कमज़ोर होते हुए पहली बार डॉलर के ख़िलाफ़ 73 का आंकड़ा पार कर गया.
     लेकिन बीते कई दिनों से जारी गिरावट वाले बाज़ार में इस हाहाकार की वजह क्या है. क्या ये वैश्विक बाज़ार में गिरावट का असर है या फिर भारतीय शेयर मार्केट घरेलू स्तर पर चुनौतियों का सामना कर रहा है? जानकारों का कहना है कि इस गिरावट की सबसे बड़ी वजह कच्चा तेल या क्रूड और अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में बढ़ते उसके दाम हैं.

Post a Comment

0 Comments