भाजपा सांसद सीपी जोशी का अनुसूचित जाति जनजाति संगठनों ने फूंका पुतला

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

भाजपा सांसद सीपी जोशी का अनुसूचित जाति जनजाति संगठनों ने फूंका पुतला

भाजपा सांसद सीपी जोशी का अनुसूचित जाति जनजाति संगठनों ने फूंका पुतला
विधायक राम लाल मीणा ने 20 नवंबर से उग्र आंदोलन की दी है चेतावनी
अफीम विभाग में फेल रहे भ्रष्टाचार पर आम आदमी पार्टी ने की सीबीआई जांच सहित नार्को टेस्ट की मांग
अफीम विभाग में सीपी जोशी ने कर्मचारी को मारा था थप्पड़ जिसके बाद विडियो हुआ खुब वायरल
  आम आदमी पार्टी चित्तौड़गढ़ के जिला कोर्डिनेटर अभियंता अनिल सुखवाल ने सीपी जोशी के धरातल खिसकने का लगाया आरोप कहा कि भाजपा की भ्रष्टाचार की कड़ी खुलने के डर से सांसद सीपी जोशी ने मामला खुलने से पहले ही थप्पड़ की गुंज से दबा दिया।
  चित्तौड़गढ़/राजस्थान।। अनुसूचित जाति के ठेकाकर्मी को थप्पड़ मारने पर चित्तौड़गढ़ सांसद के खिलाफ लामबंद हुए अनुसूचित जाति और जनजाति के कई संगठनों ने एक साथ मिलकर शुक्रवार को प्रतापगढ़ के गांधी चौराहे पर ढ़ोल नगाड़े बजाकर चित्तौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी का विरोध किया और सांसद जोशी का पुतला दहन किया। अनुसूचित जाति जनजाति के सैंकड़ों लोगों ने जिला कलक्टर कार्यालय पहुंच कर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपकर सांसद सीपी जोशी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।
 मंगलवार को चित्तौड़गढ़ के भाजपा सांसद सीपी जोशी द्वारा प्रतापगढ़ के नारकोटिक्स कार्यालय में एक अनुसूचित जाति के ठेकाकर्मी को लगाए गए चांटे की गूंज थमने का नाम नहीं ले रही है और थप्पड़ कांड को लेकर सांसद सीपी जोशी की मुश्किलें बढ़ती दिखाईं दे रही है। चित्तौड़गढ़ और प्रतापगढ़ जिले के एससी/एसटी वर्ग के लोग आंदोलन की रणनीति बना रहे है।
  रिश्वत की बात सामने आई तो चित्तौड़गढ़ बीजेपी सांसद सीपी जोशी ने सरकारी कर्मचारी को मारा थप्पड़, चित्तौड़गढ़ के आम आदमी पार्टी के कोर्डिनेटर ने जारी किए बयान।
  
  बता दें कि नारकोटिक्स विभाग पहुंचे सांसद सीपी जोशी ने वहां तैनात दैनिक ठेकाकर्मी श्रमिक को बुलाकर भ्रष्टाचार पर पुछताछ प्रारंभ कि इससे पहले की ठेकाकर्मी भ्रष्टाचार की पूरी कड़ी उजागर करता उससे पहले ही तुरंत ही सांसद सीपी जोशी ने उसे जोरदार थप्पड़ जड़ दिया जिससे वहां पर अचानक ठेकाकर्मी दहशतगर्द हो गया और आगे कुछ बोल भी नहीं पाया। सरकारी कर्मचारी को पुलिस प्रशासन की मोजुदगी में थप्पड़ जड़ने का वीडियो भी खुब वायरल हुआ तो वहीं मामले पर पलटवार करते हुए आम आदमी पार्टी के चित्तौड़गढ़ जिला कोर्डिनेटर अभियंता अनिल सुखवाल ने भाजपा सरकार पर आरोपों से हमला बोल दिया जिससे राजनितिक गलियारों में हलचल पैदा हो गई है और जिलें सहित आस पास के सभी अनुसूचित जाति के लोगों ने एक जुट होकर आंदोलन की चेतावनी दे डाली।
 
  आम आदमी पार्टी के कोर्डिनेटर अभियंता अनिल सुखवाल ने सीबीआई जांच सहित नार्को टेस्ट करवाने की मांग की है। 
  सीपी जोशी के अनुसूचित ठेकाकर्मी के पूरी बात बताएं बिना ही सांसद के थप्पड़ मारने से मामले पर अभियंता अनिल सुखवाल ने कहा कि अफीम विभाग केन्द्र सरकार के अधीनस्थ विभाग है जिसमें भाजपा नेताओं ने मुखियाओं, अधिकारियों के अलावा दलालों को भ्रष्टाचार की नियत से किसानों के पीछे लगा रखा हैं। जब अफीम किसानों ने भ्रष्टाचार का पुरज़ोर विरोध किया तो मौके पर पहुंचे भाजपा सांसद अनुसूचित जाति के गरीब ठेकाकर्मी को थप्पड़ मार कर भ्रष्टाचार से बेखबर और निर्दोष होने का दिखावा कर रहे हैं उन्होंने कहा कि अफीम विभाग में फेला भ्रष्टाचार भाजपा की ही देन है। अभियंता ने कहा कि अफीम विभाग के भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच करवाई जाएं और दोषी सभी अधिकारियों और मुखियाओं सहित सांसद जोशी का भी नार्को टेस्ट करवाया जाएं ताकि जनता सच जान सकें।
  आम आदमी पार्टी के बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल के बाद प्रतापगढ़ में कांग्रेस ने भी सांसद के खिलाफ आंदोलन का एलान कर दिया है।
 
  इस मामले में प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा मुखर होते दिखाईं दे रहे है। उन्होनें इस संबंध में प्रधानमंत्री को पत्र भेजकर आरोप लगाया कि नारकोटिक्स ब्यूरो प्रतापगढ़ में व्याप्त भ्रष्टाचार में पर्दा डालने के लिए सांसद सीपी जोशी ने अनुसूचित जाति के एक छोटे ठेकाकर्मी को मोहरा बनाया। जिससे अनुसूचित जाति/ जनजाति वर्ग में उनके खिलाफ आक्रोश पनप रहा है।
  
  उन्होनें नारकोटिक्स विभाग की शिकायतों पर कहा कि किसानों से नामांतरण और लाईसेंस जारी करने के एवज में विभाग में 50 हजार से 80 हजार रूपये तक की घूस लेने की शिकायतें मिलती रही है और इसमें केवल ठेकाकर्मी शामिल हो ऐसा संभव नहीं है। उन्होनें सांसद सीपी जोशी की तरफ इशारा करते हुए कहा कि घूस लेने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं होने से जनमानस के मन में संदेह होने लगा है कि भ्रष्टाचार के इस खेल में सांसद सीपी जोशी सम्मिलित तो नहीं है। उन्होनें आरोप लगाया कि इस स्थिति पर पर्दा डालने के लिए ही सांसद सीपी जोशी नारकोटिक्स कार्यालय पहुंचे और मोटी रकम वसूलने वाले उन अधिकारियों से स्नेहिल व्यवहार रखकर एक छोटे कर्मचारी को थप्पड़ मारकर पाक साफ होने की कोशिश की है।
विधायक राम लाल ने कहा कि सांसद जोशी ने क्यों नहीं पूछा कि किसके लिए ले रहा था रूपये
 
  प्रतापगढ़ के विधायक रामलाल मीणा ने बताया कि एक अदने से ठेकाकर्मी को थप्पड़ जड़कर सांसद ने अधिकारियों को क्लीन चिट दे दी वहीं उससे यह नहीं पूछा कि किसानों से पैसे वसूल कर किन-किन अधिकारियों और दूसरे लोगों को पहुंचाये है। उन्होनें आरोप लगाया कि एक एससी वर्ग के कार्मिक को सार्वजनिक तौर पर चांटा मारकर उन्होनें पूरे एससी वर्ग का अपमान किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री को पत्र में कहा कि जहां संविधान में एससी वर्ग को शोषण से बचाने के लिए विशेष प्रावधान और सुरक्षा की व्यवस्था की है वहीं संवैधानिक पद पर बैठे सांसद सीपी जोशी ने अनुसूचित जाति वर्ग के कार्मिक को उच्चाधिकारियों, भाजपा पदाधिकारियों के सामने नगर परिषद के सभापति प्रहलाद गुर्जर से बुलवाकर सबके सामने थप्पड़ मारकर न सिर्फ एससी वर्ग का अपमान किया है बल्कि संविधान का भी उल्लंघन किया है और नारकोटिक्स विभाग में फैल रहे भ्रष्टाचार में सम्मिलित अधिकारियों पर पर्दा डालने की कोशिश की है।
  विधायक राम लाल मीणा ने चेतावनी दी है कि अगर सांसद सीपी जोशी और भ्रष्ट अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही नहीं की जाती है तो 20 नवम्बर से आंदोलन और आक्रोश रैली निकाली जायेगी।
भाजपा ने सांसद का किया बचाव
  सांसद थप्पड़ कांड के बाद प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा सहित अनुसूचित जाति वर्ग में उपजे आक्रोश के बीच प्रतापगढ़ भाजपा ने सांसद जोशी का बचाव किया है। भाजपा के जिलाध्यक्ष गोपाल कुमावत ने कहा कि प्रतापगढ़ में फैल रहे भ्रष्टाचार के लिए विधायक मीणा को ही जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए और कहा कि सांसद जोशी किसी भी जांच के लिए तैयार है। ऐसे में विधायक मीणा का नारको टेस्ट होना चाहिए ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाये।
भाजपा सांसद सीपी जोशी के खिलाफ लामबंद हो रहे हैं एससी/एसटी संगठन
 
   सांसद सीपी जोशी द्वारा अनुसूचित जाति के एक ठेकाकर्मी को सार्वजनिक तौर पर चांटा मारने के मामले में एससी/एसटी वर्ग में आक्रोश फैल रहा है। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि चित्तौड़गढ़ और प्रतापगढ़ में अंदर खाने अनुसूचित जाति / जनजाति के संगठन लामबंद हो रहे है और एक-दूसरे से चर्चा कर अगले कदम की तैयारी में लगे है। कुछ एससी/एसटी के नेताओं से हुई बातचीत में सामने आया है कि भ्रष्टाचार का पता लगाने के लिए एक गरीब एससी वर्ग के कार्मिक को टारगेट बनाया और कानून हाथ में लेते हुए थप्पड़ मारकर सार्वजनिक अपमानित किया है। जबकि उन्हें ऐसा कोई अधिकार नहीं है। उन्होनें बताया कि पीड़ित फकीर चंद उनके सम्पर्क में है और बातचीत के बाद जरूरत पड़ने पर एससी/एसटी एक्ट की धारा 3 में मुकदमा दर्ज कराया जायेगा और आंदोलन किया जाएगा।

Ad Code