इन लोगों के लिए मजहब पहले है देश बाद में

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

इन लोगों के लिए मजहब पहले है देश बाद में

      कांग्रेस द्वारा भारत पर थोपे गए उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने फिर एक बार बता दिया है की वो मुसलमान पहले है और भारतीय कदाचित है ही नहीं पिछली साल की तरह इस साल भी हामिद अंसारी ने परेड को सलामी नहीं दी। पिछले साल भी हामिद अंसारी ने इसी कारनामे को अंजाम दिया था, जिसके बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी देखें ये पिछले साल की तस्वीर।
      हामिद अंसारी का खुला ऐलान है की, कोई कुछ भी कहे वो नहीं सुधरने वाले, आपको बता दें की हामिद अंसारी ने "वंदे मातरम" कहने से, दशहरा पर रामायण के किरदारों को "तिलक" लगाने से, "पूजा की थाली" पकड़ने से इंकार कर दिया था।
    हमारे देश को सेक्युलर बताया जाता है, पर इसी सेक्युलर देश में उपराष्ट्रपति ऐसे लोग बन जाते है। जो की शर्मनाक है, इन लोगों के लिए मजहब पहले है देश नहीं।


Ad Code