शनिवार को ये उपाय करने से बन जायेंगे सारे काम

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

शनिवार को ये उपाय करने से बन जायेंगे सारे काम

   शनिवार के उपाय – दोस्तों विश्वास और अंधविश्वास का लोगों के नजर में अलग -अलग प्रभाव है.
     कुछ लोग अंधविश्वास को दरकिनार करना हीं बेहतर समझते हैं. जबकि कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो अंधविश्वास के फथ पर चलने से खुद को नहीं रोक पाते.
    ऐसे देखा जाए तो हममें से ज्यादातर लोग इन उपायों को करने से नहीं चूकना चाहते.
      कई बार ऐसा होता है की लाख कोशिशों के बावजूद हम सफल नहीं हो पाते, ऐसे में हमारे पास जब कोई और रास्ता नहीं होता तो हम कई तरह के उपायों को अपनाते हैं. फिर वह किसी तरह का टोटका ही क्यों ना हो.
अगर आप भी उन में से एक हैं जिन्हें लगता है कि उन्हें अपने काम में पूरी तरह सफलता नहीं मिल पा रही, तो हम आपके लिए लेकर आए हैं ऐसा उपाय जिसे करने से आपके सारे काम बनने लगेंगे.
इसके लिए जरूरत है शनिवार के उपाय – आप भगवान शनि देव के दिन शनिवार को इस उपाय को करें.
शनिवार के उपाय –
1 – जेब या पर्स में रखें नीला फूल
    पंडित पुराणों का कहना है कि भगवान शनिदेव का पसंदीदा रंग होता है नीला. इसलिए अपने पर्स या अपने जेब में नीले रंग के फूल को रखें. इससे आपको शाम होते – होते अच्छी खबर जरूर मिलेगी.
2 – उड़द की दाल
    कहते हैं शनिवार को उड़द की दाल का दान करना शुभ होता है. उड़द के कुछ दानों को अपनी जेब में रखें, ऐसा करने से दुख-दारिद्रिय दूर होता है.
3 – तिल के उपाय
    दोस्तों ये तो आप सभी जानते हीं होंगे कि भगवान शनिदेव को तिल बेहद पसंद है. इसलिए शनिवार को तिल का दान करना काफी शुभ माना गया है. अगर आप इस दिन अपने पर्स में तिल के कुछ दाने रख लें तो आपको काफी लाभ मिलेगा.
4 – काले रंग का प्रयोग
     शनिवार को काले रंग के कपड़े लोग पहनते हैं. क्योंकि इसका विशेष लाभ होता है. इसलिए शनिवार के दिन आप अगर कपड़े पहन आप पाएं तो अपने साथ काले रंग का पर्स या रुमाल रखें.
     ये है शनिवार के उपाय – दोस्तों ये छोटे – छोटे आसान से भगवान शनिदेव के दिन शनिवार के उपाय करबे से आप कई परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं. और हो सकता है कि ऐसा करने से आपको और भी ऐसे कार्यों में सफलता मिलने लग जाए, जिसका आपको लंबे समय से इंतजार है. बस इसके लिए अगर सबसे ज्यादा किसी चीज की जरूरत है तो वह आस्था और विश्वास की.

Ad Code