राज्यसभा चुनाव में मुख्तार अंसारी के वोट देने पर हाई कोर्ट ने लगाई रोक

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

राज्यसभा चुनाव में मुख्तार अंसारी के वोट देने पर हाई कोर्ट ने लगाई रोक

Image may contain: 1 person, eyeglasses
      यूपी में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए शुक्रवार को होने जा रहे राज्यसभा चुनाव में वोटों का गणित बैठाने के लिए पार्टियों ने अपनी रणनीति तैयार कर ली है। बीजेपी की तरफ से एक अतिरिक्त उम्मीदवार के मैदान में होने के कारण सियासी लड़ाई यहां दिलचस्प बनी हुई है। हालांकि उपचुनावों के बाद साथ आए एसपी और बीएसपी को उम्मीद है कि वे अपने प्रत्याशी को राज्यसभा भेजने में कामयाब हो जाएंगे। उधर, राज्यसभा में वोटों के इस गणित के बीच इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बीएसपी विधायक मुख्तार अंसारी के वोट देने पर रोक लगा दी है। ऐसे में शुक्रवार को मतदान के दौरान सियासी लड़ाई और दिलचस्प होने की उम्मीद है।
     यूपी में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए शुक्रवार को होने जा रहे राज्यसभा चुनाव में वोटों का गणित बैठाने के लिए पार्टियों ने अपनी रणनीति तैयार कर ली है। बीजेपी की तरफ से एक अतिरिक्त उम्मीदवार के मैदान में होने के कारण सियासी लड़ाई यहां दिलचस्प बनी हुई है। हालांकि उपचुनावों के बाद साथ आए एसपी और बीएसपी को उम्मीद है कि वे अपने प्रत्याशी को राज्यसभा भेजने में कामयाब हो जाएंगे। उधर, राज्यसभा में वोटों के इस गणित के बीच इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बीएसपी विधायक मुख्तार अंसारी के वोट देने पर रोक लगा दी है। ऐसे में शुक्रवार को मतदान के दौरान सियासी लड़ाई और दिलचस्प होने की उम्मीद है।
     बता दें कि मऊ से विधायक मुख्तार अंसारी हत्या के आरोप में बांदा जेल में बंद हैं। 20 मार्च को विशेष जज (एससी-एसटी) गाजीपुर ने अंसारी को वोट देने की दी छूट दी थी। इसके बाद राज्य सरकार ने स्पेशल जज के आदेश को हाईकोर्ट में दी। गुरुवार को जस्टिस राजुल भार्गव की एकलपीठ ने इस पर सुनवाई करते हुए मुख्तार के मतदान पर रोक लगा दी। साथ ही कोर्ट ने आदेश की कॉपी तत्काल बांदा जिला जेल भेजने का आदेश भी दिया है। बता दें कि गुरुवार को चुनाव आयोग ने भी मुख्तार अंसारी को वोट डालने की अनुमति दे दी थी।
      गौरतलब है कि देश भर में 59 सीटों के लिए 23 मार्च को राज्यसभा का चुनाव होने जा रहा है। यूपी से इस बार कुल 10 उम्मीदवार राज्यसभा पहुंचने वाले हैं। इसमें से 8 सीटों पर बीजेपी की जबकि एक पर समाजवादी पार्टी की जीत पक्की है। यूपी की 10वीं सीट पर सबसे बड़ा सस्पेंस बना हुआ है। इस सीट पर एसपी-कांग्रेस जहां बीएसपी को जिताने में जुटी हैं, वहीं बीजेपी ने भी 9वां कैंडिडेट दे रखा है। बुधवार रात लखनऊ में अखिलेश जहां डिनर पार्टी में अपने संख्याबल की पैमाइश कर चुके हैं तो योगी भी आवास पर सहयोगियों की बैठक ले चुके हैं। अब मामला सेट है और सबको शुक्रवार की वोटिंग के बाद नतीजों का इंतजार है।

Ad Code