Headline News
Loading...

Ads Area

क्या गांवों वालों की नाराजगी वसुंधरा राजे सरकार को सत्ता से उखाड फेकेगी ?

     राजस्थान में वसुंधरा राजे ने लाखों गांवों पर ताले लगवा दिए है. हजारों ग्राम पचायतों में कामकाज ठप हो गया है. सभी 995 पंचायत समितियों सूनी पडी है. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योकि राजस्थान के गांवों के विकास का जिम्मा जिन कंधों पर उन्हें लगातार वसुंधरा निराश कर रही है. ऐसे में विधानसभा चुनावों में वसुंधरा राजे के लिए मुश्किले बढ सकती है. क्योकि राजस्थान में 70 फीसदी वोट गांव से आते है. ऐसे में गांवों वालों की नाराजगी वसुंधरा राजे को सत्ता से ना उखाड दे. 
    ये पहली बार नहीं है जब राजस्थान के गांवों में पहली बार ताले लगे है. इससे पहले भी गांव की सरकार इसी साल कई बार ताले लटक चुके थे. गांव में अनिशिचितकालीन आंदोलन के बाद राजस्थान और केंद्र सरकार से जुडी कई योजनाओं से विकास कार्य प्रभावित होंगे. जिसमें सबसे ज्याद प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, मुख्यमंत्री जलस्वावलंबन योजना और मनरेगा जैसी योजनाओं पर विपरित प्रभाव पडेगा.
    ये आंदोलन इसलिए हो रहा है क्योकि ना ही वसुंधरा सरकार कर्मचारियों की पदोन्नति कर रही है और ना ही पंचायतों में नई भर्तियां हो रही है. ऐसे में काम का बोझ लगातार बढता जा रहा है, जिससे राजस्थान लगातार विकास कार्यों में पिछडता जा रहा है. गांव बंद में बीडीओ, ग्राम विकास अधिकार और पंचायत प्रसार अधिकारी अनिश्चितकाल तक अवकाश पर चले गए है।

Post a Comment

0 Comments