कोरोना मे सबसे सुरक्षित मास्क कौन सा है?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

कोरोना मे सबसे सुरक्षित मास्क कौन सा है?

किस जगह पर जरूरी होता है मास्क?
     भारत कोरोना वायरस के संक्रमण की लड़ाई में, जिस हथियार ने सबसे ज्यादा हमारा साथ दिया है- वो है चेहरे पर लगने वाला मास्क. लेकिन कई बार लोगों से ऐसा सुनने में आया है कि उन्हें मास्क लगाने में दिक्कतें होती हैं उन्हें सांस लेने में परेशानी होती है पर यकीन मानिए ये छोटी सी तकलीफ उस बड़ी दिक्कत के आगे कुछ भी नहीं जिसमे हमारी जान भी जा सकती है। आइए जानते हैं कि आप कोरोना से अपने बचाव हेतु इस छोटे से हथियार का इस्तेमाल आपको कब, कैसे और कहां करेंगे ? आपको यह जानकारी होना बहुत जरूरी है आइए आज हम जानते हैं मास्क के बारे में :-
पहला सवाल यह है कि कौन सा मास्क सही है?
   बहुत से लोगों के मन में कहीं ना कहीं यह सवाल उठता है कि कॉटन मास्क, सर्जिकल मास्क या फिर कुछ और? तो जवाब ये है कि घर से बाहर निकलते हुए आप N95/KN95 का उपयोग करिए या फिर सर्जिकल मास्क का उपयोग करें. इस को आप तब तक इस्तेमाल कर सकते हैं जब तक यह मास्क ढीली ना पड़ जाए क्योंकि ढीली होने के बाद संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है और वायरस आसानी से आपकी नाक और मुँह में प्रवेश कर सकता है। 
किस जगह पर जरूरी होता है 2 लेयर का मास्क?
    कोरोना की दूसरी लहर आने के बाद आपने अक्सर देखा होगा कि डॉक्टर और आमजन दो मास्क लगा रहे है. इस तरह हमारी नाक और मुंह पर लगी कई लेयर्स कोरोना वायरस को इसके अंदर आने से रोक देती हैं. डॉक्टर के मुताबिक हाई रिस्क वाली जगहों पर जाते हुए डबल मास्क का उपयोग ठीक रहता है. अगर आप अस्पताल, फैक्ट्री, ऑफिस जा रहे हैं या फिर पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको डबल मास्क की जरूरत है क्योंकि 2 लेयर होने होने से वायरस से आप बच सकते हैं। 
सिंगल मास्क कहां पर है जरूरी?
   हाई रिस्क जोन में बताई गई सभी जगहों को छोड़कर आप सर्जिकल मास्क यह कॉटन मास्क का उपयोग कर सकते हैं। 
कहां बिना मास्क के रह सकते हैं?
   सबसे ज्यादा पूछे जाने वाला सवाल यह है कि कहां बिना मास्क के रह सकते हैं इस सवाल का जवाब डॉक्टर के मुताबिक अगर आप संक्रमित नहीं है और अपने परिवार के साथ हैं तो मास्क उतार सकते हैं. इसके अलावा मास्क को आप तब उतार सकते हैं जब आप अकेले कार ड्राइव कर रहे हो या अकेले में टहल रहे हो। 
मास्क लगाते वक्त ना करें यह काम
    अक्सर आपने देखा होगा कि लोग चालान से बचने के लिए मास्क लगा लेते हैं आप ये गलतियां बिल्कुल न करें. मास्को को हमेशा लगा कर रखें इसे नाक के नीचे ना आने दे. मास्को को उतारते वक्त पहले हाथों को सैनिटाइज करें उसके बाद कान के पास से मास्को उतारे और इसी गले में बिल्कुल ना लटकाए.
मास्को को बार-बार बिल्कुल ना छुएं
   कुछ लोग मास्क को दोनों तरफ से इस्तेमाल करते हैं आप ऐसी गलती बिल्कुल ना करें मास्क कोई भी हो इसे दोनों तरफ से इस्तेमाल करने की गलती कभी न करें. अगर होममेड मास्क है तो धोकर ही दोबारा पहनें इसके साथ ही कभी भी गीला मास्क ना पहनें इससे संक्रमण का खतरा और अधिक बढ़ जाता है मास्को को डिटर्जन या गर्म पानी से धूल कर धूप में सुखाएं.
K95 या N95 इन दोनो मास्क में क्या अंतर है और कौन सा मास्क है हमारे लिए बेहतर है?
    दोनों मास्क में कोई खास अंतर नहीं होता है. इन दोनों मास्क में अप्रूवल और कंफर्टेबल के आधार पर थोड़ा अंतर है. कई लोगों को मानना है कि KN95 मास्क कैरी करने में थोड़े कंफर्टेबल होते हैं, जबकि N95 मास्क को ज्यादा देर तक लगाए रखने में मुश्किल होती है. वहीं, सबसे खास अंतर दोनों मास्क के अप्रूवल के आधार पर ही होता है. दरअसल, N95 मास्क को अमेरिकी संस्थान के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर ऑक्यूपेशनल सेफ्टी एंड हेल्थ (NIOSH)की ओर से अप्रूवल मिला है!
   हीं, KN95 मास्क की बात करें तो यह NIOSH की ओर से अप्रूव्ड नहीं है. हालांकि, चीन जैसे कई दूसरे देशों के संस्थानों ने इस अप्रूवल दिया है. बताया जा रहा है कि अमेरिका में मास्क अप्रूवल की प्रक्रिया काफी मुश्किल है और इसमें ये मास्क पास नहीं हुआ है. ऐसे में अधिकतर देश N95 मास्क पर ज्यादा भरोसा कर रहे हैं और कई देशों में इसका इस्तेमाल किया जा रहा है. KN95 मास्क का उत्पादन भी चीन में ही हो रहा है और इसके कई सैंपल पास नहीं हुए हैं!
कौनसा मास्क है बेहतर?
    कौनसा मास्क बेहतर है, इसके लिए अलग अलग रिपोर्ट्स सामने आई है. साथ ही कई रिपोर्ट्स में कहा गया है कि मास्क के साथ ही मास्क पहनने का तरीका भी काफी महत्वपूर्ण है. वैसे सबसे बेहतर N95 मास्क माने गए हैं, इसके बाद सर्जिकल और इसके बाद कपड़े वाले मास्क को सबसे सेफ माना जाता है. ऐसे में आपको भी अच्छे मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए और साथ ही मास्क को अच्छे से पहनना भी चाहिए!
कोरोना वायरस एक मास्क पर कितने समय तक एक्टिव रह सकता है?
    स्वास्थ्य सेक्टर में ड्यूटी पर तैनात डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को ही नहीं, बल्कि आम लोगों को भी मास्क पहनकर ही सार्वजनिक स्थान पर जाने की हिदायत लगातार दी जा रही है. कोविड 19 संक्रमण के चलते लॉकडाउन का दौर कई जगह जारी है, लेकिन ज़रूरी चीज़ों के लिए आप बाहर जा सकते हैं. ऐसे में आपको जानना चाहिए कि मास्क पर कोरोना वायरस कब तक सक्रिय रह सकता है.
    इस बारे में समय के साथ कई थ्योरीज़ सामने आ चुकी हैं, लेकिन मास्क के अंतर को समझते हुए विशेषज्ञों की राय जानने से स्थिति स्पष्ट हो सकती है. अस्ल में, दिल्ली स्थित एम्स के एक अधिकारी ने अपने स्टाफ को मास्क जारी करने और उनके उपयोग के संबंध में जो सर्कुलर जारी किया है, उसके मुताबिक एन95 मास्क पर वायरस चार दिनों तक रह सकता है. आइए विस्तार से समझें कि पूरा सच क्या है.
कितने समय बाद रीयूज़ करें मास्क?
    एम्स के सर्कुलर में साफ कहा गया है कि एन95 फेस मास्क का दोबारा इस्तेमाल चार दिन बाद किया जाए. एम्स ने अपने स्टाफ के लिए पांच मास्क और उनके लिए चार कवर जारी किए हैं. हिदायत दी गई है कि पहले दिन पहले नंबर का मास्क इस्तेमाल करने के बाद उसे पैकेट नंबर एक में रख दें और चार दिन सूखने दें. दूसरे दिन नंबर दो मास्क और कवर का इस्तेमाल करें. इसी तरह, तीसरे और चौथे दिन नंबर चार का.
   पांचवे दिन पहले नंबर का मास्क रीयूज़ करें और फिर उसे उसी के कवर में रखें. यह हिदायत दी गई है ताकि चार दिनों में मास्क की बाहरी सतह पर वायरस निष्क्रिय हो जाए. इस सर्कुलर में उल्लेख है कि ये दिशानिर्देश अमेरिका के अटलांटा स्थित रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र यानी सीडीसी जारी किए गए हैं.
क्या एक हफ्ते भी तक मास्क पर रह सकता है वायरस?
    हांगकांग बेस्ड साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने लैंसेट जर्नल की रिपोर्ट के हवाले से लिखा है कि अध्ययन में पाया जा चुका है कि कोरोना वायरस स्टील और प्लास्टिक जैसी सतहों पर चार दिनों तक जबकि फेस मास्क की बाहरी सतह पर सात दिनों तक सक्रिय रह सकता है. सामान्य तौर पर घरेलू स्तर पर बने कपड़े के मास्क को आप कुनकुने पानी और साबुन की मदद से अच्छी तरह धोकर रीयूज़ करने लायक बना सकते हैं.
कब तक रीयूज़ किया जा सकता है एन95 मास्क?
    एन95 मास्क अस्ल में, स्वास्थ्य सेवाओं में जुटे कर्मचारियों के इस्तेमाल के लिए ही सुझाया जा रहा है क्योंकि वो लोग पूरे समय वायरस के संपर्क या खतरे में हो सकते हैं. एम्स ने जो सर्कुलर जारी किया है, उसके मुताबिक एक एन95 मास्क को चार दिनों के अंतराल के बाद पांच बार इस्तेमाल करने के बाद डस्टबिन में फेंक दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं. 20 दिन बाद स्वास्थ्यकर्मियों को पांच नये मास्क और जारी करने की बात भी कही गई है.
क्या रामबाण हैं एन95 मास्क?
    लगातार हिदायत दी जा रही है कि न सिर्फ स्वास्थ्यकर्मी बल्कि सभी मास्क पहनें. लेकिन, क्या एन95 मास्क पहनने से कोरोना वायरस से बचाव पूरी तरह संभव है? इस सवाल का जवाब है कि अन्य सावधानियों की तरह ये भी एक ज़रूरी सावधानी है. वॉक्स की रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि इसका मतलब यह नहीं है कि आप हाथ धोने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने जैसी सावधानियां छोड़ दें. साथ ही, कई देशों में अपील की जा रही है कि एन95 मास्क स्वास्थ्यकर्मियों को आसानी से उपलब्ध हो सकें, इसलिए आम जनता इनका इस्तेमाल न करे.

Ad Code