क्या आप युट्यूबर्स बन पैसा कमाने की सोच रहे है?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

क्या आप युट्यूबर्स बन पैसा कमाने की सोच रहे है?

    सस्ते स्मार्टफोनों और डेटा ने इंटरनेट की पहुंच बढ़ाई है। आज इंटरनेट गांव-गांव में पहुंच गया है। इसने भारतीय यूट्यूबप्रेन्योर की मदद की है। बीते कुछ साल में भारत कंटेंट प्रोडक्शन के मामले में काफी आगे बढ़ा है.
यूट्यूब कितने लाइक्स के कितने पैसे देता है?
  दोस्तो यूट्यूब विडियो पर आने वाले लाइक हमे पैसे नहीं देते बल्कि उन लाइक्स का काम होता है वीडियो को प्रोमोट करना मतलब अगर आपके वीडियो पर ज्यादा लाइक्स आ रहे है तो इसका मतलब आपका वीडियो को जायदा लोग देखने की संभावना है, और अगर अनलाइक आ रहे है तो समझिए आपका वीडियो को लोग नहीं देखने वाले।
अब आपको बताता है कि यूट्यूब किस चीज के पैसे देता है और कैसे और कितने पैसे देता है?
   यूट्यूब हमे वीडियो व्यू के पैसे देता है कि वीडियो कितना देखा जा रहा है। आपको पता होगा कि हम कोई वीडियो चलाते है तो एड आता है और फिर हम उसको स्किप करते है।
   जी हा वो एड ही हमे पैसे देता है अगर हम अपने वीडियो पर उस तरह के एड्स लाएगे तो, अगर व्यूवर्स के द्वारा आपका एड पूरा देखा गया तो आपको ज्यादा पैसे मिलेंगे और अगर स्किप कर दिया गया तो थोड़े कम पैसे मिलेंगे वैसे तो 1000 व्यू का 1$ दिया जाता है। पर ये फिक्स नहीं है अगर आपके वीडियो पर बाहर के व्यू आ रहे है यानी कि इंडिया से बाहर के तो आपके 1000 व्यू पर ज्यादा भी पैसे मिल सकते है। 
   आपको बता दे कि यूट्यूब हमारे कमाए गये पैसों में से 45% अपने पास रखती है और बाकी पैसे हमे दे देती है।यानी 65% हमे देती है।
   अब आपके मन में ये सवाल जरूर आया होगा कि यूट्यूब अपने पास 45% क्यों रखती है तो इसका जवाब है वो हमे फ्री में वीडियो अपलोड करने दे रही है और हम अनलिमिटेड डाटा ऑनलाइन अपलोड करते है।
यूट्यूब से आप कैसे कमाएं पैसा?
    यूट्यूब से दौलत और शोहरत कमाने वालों की अब कमी नहीं रह गई है। आपकी क्या बात दर्शकों को भा जाए कुछ नहीं पता. इस तरह के बहुते से उदाहरण हैं, जिन्हें शुरुआत में काफी मुश्किलें आई थी लेकिन, बाद में इन्हें इस माध्यम के जरिए लोगों ने खूब सराहा। 
   खाना बनाने की टिप्स से लेकर गीत-संगीत, फिल्म, मर्ज दूर करने के नुस्खों तक यहां सब कुछ मिलता है। शायद ही कुछ ऐसा हो जो आप खोजें और यूट्यूब पर उसका जवाब न मिल पाए। 
   कुछ साल पहले पॉप बैंड 'सनम' अपनी पहचान बनाने की कोशिशों में जुटा था. बेहद प्रतिभावान होने के बावजूद इस बैंड को अपेक्षित रेस्पॉन्स नहीं मिल रहा था. बैंड के सदस्य समर पुरी कहते हैं कि मार्केटिंग की सभी स्ट्रैटजी आजमाने के बाद हमने कुछ नया करने की ठान ली. बात 2010 की है। उस वक्त यूट्यूब भारत में तेजी से बढ़ रहा था। 
    इसी बैंड के अन्य सदस्य केशव धनराज ने कहा कि हमें याद है जब बैंड के मैनेजर बेन थॉमस को यूट्यूब से 800 डॉलर का चेक मिला था। हमारी खुशी छुपाए नहीं छुप रही थी। सनम यूट्यूब चैनल के अभी 45 लाख के लगभग सब्सक्राइबर्स हैं। 
   यूट्यूब ने न केवल कमाई के रास्ते खोले हैं, बल्कि लोगों की छुपी प्रतिभा को सामने लाने का भी काम किया है। 
क्यों बढ़ रहा है यूट्यूब कारोबार?
   यूट्यूब इंडिया के इंटरटेनमेंट हेड सत्य राघवन कहते हैं कि अभी हमारे पास 11 लाख से अधिक सब्सक्राइबर वाले 400 से ज्यादा चैनल हैं. 2014 में इस तरह के चैनलों की संख्या महज 16 थी. आंकड़ों का हवाला देते हुए राघवन ने बताया कि 23.50 करोड़ भारतीय स्मार्टफोन यूजर्स हर महीने यूट्यूब का इस्तेमाल कर रहे हैं.
    वरुण वगीश बतौर पत्रकार, न्यूजरीडर, पीआर प्रोफेशनल के तौर पर काम कर चुके हैं. माउनटेन ट्रेकिंग के शौक ने उन्हें 'माउनटेन ट्रेकर' चैनल शुरू करने के लिए प्रेरित किया. इस चैनल के 3,50,000 सब्सक्राइबर हैं. इसके 3 करोड़ व्यूज हैं। 
कैसे बना सकते हैं यूट्यूब से पैसा?
   वरुण कहते हैं कि स्मार्टफोन की बढ़ती पहुंच ने यूट्यूब के जरिए कारोबार करने का मौका दिया है। वैसे तो कई लोग यूट्यूब से पैसा बना रहे हैं, लेकिन यह इतना भी आसान नहीं है. खासतौर पर शुरुआत करने वाले लोगों के लिए काफी मुश्किल है। अगर आप एक सीमा को पार कर जाते हैं तो यह काम आसान हो जाता है। यूट्यूबप्रेन्योर को मिलने वाला भुगतान हर माह में अलग-अलग होता है। यह कई बातों पर निर्भर करता है। 
    राघवन बताते हैं कि यूट्यूब कहता है कि कंटेंट क्रिएट करने वालों को 12 महीने के भीतर 4,000 घंटे का वॉचटाइम (देखने का समय) पूरा करना है. उसके सब्सक्राइबरों की संख्या कम से कम 1000 होनी चाहिए। तभी वह कमाई करने के लिए पात्र होगा। यूट्यूब गूगल एडसेंस के जरिए रेवेन्यू-शेयरिंग मॉडल पर काम करता है। कंटेंट क्रिएटर विज्ञापनों के जरिए यूट्यूब पर पैसा कमाते हैं। 
शौक को कैसे कारोबार में बदलने का देता है मौका?
     यूट्यूब पर दर्शक बनाने के लिए जरूरी नहीं कि आपको नाच-कूद, डांस करना, गीत गाना आता हो. कबिता सिंह लोगों को खाना बनाने की टिप्स देकर यूट्यूब स्टार बन गई। वह कई नामचीन कंपनियों के साथ काम कर चुकी हैं। शादी के बाद वह कुछ साल पहले अमेरिका शिफ्ट हो गई थीं। 2014 में वह दोबारा भारत लौटीं, उन्होंने कुकिंग के शौक को ही यूट्यूब के जरिए आगे बढ़ाना शुरू कर दिया। उनके चैनल 'कबिता किचन' के आज 35 लाख सब्सक्राइबर हैं। उनके चैनल को 50 करोड़ से भी व्यूज मिले हैं। 
शुरुआत करने वालों के लिए टिप्स
   ज्यादातर सफल यूट्यूबप्रेन्योर कहते हैं कि शुरू में पैसे के बारे में नहीं सोचना चाहिए। अगर आप सफल हुए तो पैसा खुद आपके पीछे-पीछे आएगा। 
   वगीश कहते हैं कि अगर आपको यात्रा करना अच्छा लगता है और उस अनुभव को आपको दूसरों के साथ साझा करने में मजा आता है तो यूट्यूब आपके लिए सबसे अच्छा जरिया है। अगर आपको केवल ट्रैवलिंग पसंद है, लेकिन वीडियो बनाना अच्छा नहीं लगता है तो आपके लिए यह काम नीरस हो जाएगा। 
   सनम के सदस्य वेंकी एस कहते हैं कि आपको समझना चाहिए कि आप ने चैनल दूसरों तक अपनी बात पहुंचाने के लिए बनाया है। इसलिए पैसे और लोकप्रियता के बारे में न सोचकर सिर्फ अपना काम करते रहना चाहिए। 
    राघवन का कहना है कि यूट्यूब पर सफल होने का एक ही मंत्र है। वह है 'अच्छा कंटेंट, जुनून और स्थिरता। एक बार जब क्रिएटर सब्सक्राइबर बनाने में सफल हो जाते हैं तो उनके पास कई लोकप्रिय ब्रांड से गठजोड़ करने का रास्ता खुल जाता है। 

Ad Code