भारत की एक मूल नस्ल "रोमा जिप्सी" जो यूरोप में जी रही है संघर्ष की जिंदगी

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

भारत की एक मूल नस्ल "रोमा जिप्सी" जो यूरोप में जी रही है संघर्ष की जिंदगी

Roma Jipsi in Europe
 यह समुदाय एक बंजारा यानी घुमक्कड़ वाली जिंदगी जीता है। यह एक जगह स्थिर नहीं रहते इसलिए इन्हें "जिप्सी" कहा जाता है। यह समुदाय करीब 1000-1200 साल पहले उत्तर भारत खासकर राजस्थान से चलते-चलते यूरोप चले गया। 
   डीएनए से यह पता चला कि राजस्थान की कालबेलिया प्रजाति का डीएनए इन से पूरी तरह से मैच होता है। यानी कि यह राजस्थान के घुमंतू बंजारा समुदाय से हैं, जो यूरोप में बस गए हैं इनकी भाषा रोमा पूरी तरह से भारतीय भाषा से मिलती जुलती है। 
Roma Jipsi in Europe
महमूद गजनी द्वारा गुलाम बनाकर अफगानिस्तान ले जाया गया
  रोमा करीब एक हजार साल पहले उत्तर भारत से यूरोप की ओर पलायन कर गए। बाद में ये बाइजेंटाइन साम्राज्य का हिस्सा बन गए। चूंकि यह साम्राज्य अपने आपको रोमन साम्राज्य का उत्तराधिकारी मानता था तो भारत से गए इन बंजारों ने अपना नाम ही "रोमा" रख लिया। किन कारणों से वे भारत छोड़कर गए या भारत में वे किस जाति से संबंधित थे? जैसे कई प्रश्न है जिनका सटीक जवाब अभी तक नहीं मिल पाया है।
  कुछ इतिहासकार यह मानते है कि रोमा लोगों को हजारो की संख्या में महमूद गजनी द्वारा गुलाम बनाकर अफगानिस्तान ले जाया गया था। 15वीं शताब्दी के आस-पास वे आजाद होकर यूरोप चले गए थे। भारत छोड़ने के बाद रोमा जहाँ भी गए, उन्हे वहाँ की स्थानीय बोली सीखनी पड़ी। शायद इसलिए उनकी भाषा और व्याकरण काफी बदल गई, लेकिन सैकड़ों साल पश्चिम एशिया और यूरोप में भटकने के बावजूद रोमा भाषा आज भी पश्चिम भारतीय बोलियों-राजस्थानी, पंजाबी और गुजराती के बहुत करीब है।
  रोमा समुदाय यूरोप के कई देशों में बिखरा हुआ है। यूरोप में रोमा-विरोधी अभियानों का लंबा इतिहास रहा है। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान नाजीपरस्त फ्रांसीसी सरकार ने भी रोमा समुदाय के हजारों लोगों को जर्मनी से खदेड़ दिया था। नाजियों ने भी रोमा समुदाय पर भयंकर अत्याचार किए थे।
Roma Jipsi in Europe
रीति रिवाज पूरी तरह से हिंदू धर्म के
  यह लोग ईसाई धर्म को नहीं मानते इन के रीति रिवाज पूरी तरह से हिंदू धर्म के हैं क्योंकि यह काफी अपराध करते हैं इसीलिए यूरोप के कई देशों में इन्हें एक अपराधी के तौर पर देखा जाता है। 
रोमा लोगों पर सबसे ज्यादा जुल्म फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति द्वारा किये गए 
   आधुनिक इतिहास में रोमा लोगों पर सबसे ज्यादा जुल्म फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति निकोलस सारकोजी ने 2007 से 2012 के अपने कार्यकाल के दौरान किया। इन्होंने चुन-चुन कर अपने पूरे देश से रोमा जिप्सी लोगों को खदेड़ दिया या उन्हें जेलों में बंद किया। इन्हें बसों में भर-भर के रोमानिया और बुलगारीया छोड़ दिया गया। निकोलस सारकोजी की इसके लिए काफी आलोचना हुई रोहिंग्या पर भारत को उपदेश देने वाले तमाम देश निकोलस सरकोजी के इस आचरण पर एकदम खामोश थे। बाद में जब निकोलस सरकोजी पर कई गंभीर आरोप लगे तब उन्हें ब्रुसेल्स में यूरोपियन यूनियन के सामने पेश होना पड़ा।
Roma Jipsi in Europe 
सामूहिक दंड देने का तालिबानी तरीका फ्रांस ने कैसे अपना लिया?
   16 सितंबर 2008 को ब्रुसेल्स में यूरोपीय संघ की एक शिखर बैठक में तमाम आलोचनाओं को खारिज करते हुए सरकोजी ने जोर देकर कहा था, कि जिप्सियों या रोमा लोगों को खदेड़ना सुरक्षा की दृष्टि से आवश्यक है और इस बारे में फ्रांस को किसी की नसीहत की जरूरत नहीं है। उन्होंने उखाड़े गए सौ रोमा शिविरों को आतंक, अपराध और वेश्यावृत्ति का अड्डा करार देते हुए कहा कि 'हम आगे भी इन अवैध शिविरों को नष्ट करते रहेगे।' सरकोजी ने अपने दावे की पुष्टि में अभी तक कोई ठोस आकड़े पेश नहीं किए हैं। यदि रोमा अपराध में लिप्त है भी तो उन्हे कानून सम्मत सजा मिलनी चाहिए। सामूहिक दंड देने का तालिबानी तरीका फ्रांस ने कैसे अपना लिया? ऐसा नहीं है कि फ्रास में सरकोजी के इस कदम का विरोध नहीं हुआ। उस वक्त पचास हजार फ्रांसिसियों ने पेरिस व अन्य शहरों में रोमा लोगों से हो रहे भेदभाव के खिलाफ प्रदर्शन किया। यूरोपीय संघ ने भी फ्रास पर आरोप लगाया है कि अवैध आव्रजकों के शिविरों को उखाड़ने के नाम पर वह यूरोप में नस्लवाद को बढ़ावा दे रहा है।
रोमा जिप्सी पर जो अत्याचार किए उसकी उन्हें सजा मिली
  अंततः 2012 में निकोलस सारकोजी बुरी तरह से हार गए और राजनीति से पूरी तरह से बाहर हो गए आज निकोलस सारकोजी कहां है किसी को नहीं पता लेकिन उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने जो रोमा जिप्सी के ऊपर अत्याचार किए उसकी उन्हें सजा मिली। 
'रोमा लोगों का इतिहास विपत्ति और वेदना का इतिहास है'
  इदिरा गांधी द्वारा 1983 में यूरोप में रोमा महोत्सव में कही गई बात को यहा दोहराना प्रासंगिक होगा कि 'रोमा लोगों का इतिहास विपत्ति और वेदना का इतिहास है, लेकिन नियति के थपेड़ों पर मानवीय उत्साह की जीत का भी इतिहास है।'
Roma Jipsi in Europe
भारत ने कड़ी आपत्ति दर्ज की
   मोदी सरकार के आने के बाद यूरोप के कई देशों में जो रोमा जिप्सी ऊपर अत्याचार हुए उस पर भारत ने कड़ी आपत्ति दर्ज की और यूरोपियन यूनियन के सामने भारत के राजदूत में भारत का पक्ष कई बार रखा और अंततः यूरोपियन यूनियन ने अपने अपराधी लिस्ट में से रोमा जिप्सियों को बाहर कर दिया। 
   नरेंद्र मोदी सरकार के दबाव के बाद यूरोप के तमाम देशों में रोमा जिप्सियों के खिलाफ नस्ल भेद कानून बनाया गया यानी कि अब कोई भी पुलिस या प्रशासन या कोई भी व्यक्ति यदि रोमा जिप्सियों से भेदभाव करेगा तब उसके ऊपर गंभीर धाराओं में केस होगा और कई देशों में जो इनके ऊपर नस्लीय भेदभाव होते थे उसे भी समाप्त कर दिया गया है। 
   पहले यूरोप के किसी भी शहर में अपराध के केस होते थे तब पुलिस रोमा जिप्सी के अड्डों पर जाकर उन्हें बिना किसी सबूत के प्रताड़ित करती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होता। 
Roma Jipsi in Europe
यूरोप की मुख्यधारा में किया जाएगा शामिल
   अब रोमा जिप्सी को यह अधिकार मिला है कि वह अपने खिलाफ यदि भेदभाव है तो उसकी शिकायत पुलिस और प्रशासन से कर सकता है साथ ही रोमानिया, बुलगारिया, फ्रांस, फिनलैंड, नॉर्वे, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, ऑस्ट्रिया जैसे तमाम देशों ने रोमा जिप्सी लोगों के पुनर्वास के लिए कई योजनाएं भी चलाई हैं और तमाम यूरोप की सरकारों की कोशिश यह है कि इन्हें बंजारा और घुमंतू प्रजाति से हटाकर एक जगह स्थिर शहरी समुदाय बनाया जाए ताकि रोमा जिप्सी भी यूरोप की मुख्यधारा में शामिल हो सके। 
  रोमा जीपी रोमानिया की जनसंख्या के 10% हैं हंगरी में 5% बुल्गारिया में 8% यूक्रेन में 3% फ्रांस में 5% फिनलैंड में 1% और दूसरे तमाम यूरोपियन देशों में भी ये 1% से 2% हैं। 

Ad Code