Headline News
Loading...

Ads Area

लाखों के सोने के जेवर मामले में पुलिस क्यों नहीं कर पाई खुलासा?

 25 लाख से भी अधिक कीमत के सोने के जेवर
विप्र फाउंडेशन ने लुट प्रकरण का खुलासा करने के लिए पुलिस अधीक्षक को दिया ज्ञापन
 बांसवाड़ा/राजस्थान।। नेताओं का कोई मामला होतो पुलिस की मुस्तैदी ऐसी हो जाती है कि वह कब्र में घुसे अपराधियों को भी ढूंढ लाती है लेकिन बात जब गरीब को न्याय दिलाने के लिए अपराधियों को पकड़ने की हो तो पुलिस ढ़ेर हो जाती है, लेकिन ऐसा क्यों होता है? क्या गरीबों के अधिकार नहीं होते है? क्या गरीबों को न्याय पाने का अधिकार नहीं है? क्या पुलिस सिर्फ नेताओं और पूंजीपतियों की गुलामी करने के लिए ही है? क्या पुलिस सिर्फ दो नंबर का काम करने वालों से हफ्ता वसूली और मासिक बंधी लेने के लिए ही है? आदि कई सवालों को मन में दबाए विप्र फाउंडेशन बांसवाड़ा के प्रतिनिधि मंडल ने आज पुलिस अधीक्षक के नाम का एक ज्ञापन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमान कानसिंह भाटी को दिया।  
Vipra Foundation Gyapan
 प्रतिनिधि मंडल विप्र फाउंडेशन के जिला अध्यक्ष योगेश जोशी, विप्र फाउंडेशन प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद द्विवेदी, नगर अध्यक्ष ईश्वरदास वैष्णव के सयुक्त नेतृत्व में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से मिल गत 9 दिसंबर बड़ी पडाल घाटोल निवासी भगवती शंकर भट्ट के साथ हुई लुट प्रकरण में शीघ्र खुलासा कर राहत प्रदान का आग्रह किया।
Vipra Foundation Gyapan
  स्मरण रहे घाटोल बैंक के लॉकर से भगवती लाल भट्ट 25 लाख से भी अधिक कीमत के सोने के जेवर अपनी पुत्री, पत्नी, पुत्र वधु के लेकर निकले थे की राह में सामान खरीदने रुके तब कोई रेकी कर मोटरसाइकल के बैग से उसे निकाल ले गया। इससे भगवती लाल भट्ट के जीवन भर की कमाई लूट में चली गई।
  इस अवसर पर प्रतिनिधिमंडल में जुगलकिशोर जोशी, रामशंकर जोशी, ललित मोहन जोशी, कैलाश जोशी, महेश गृहस्थी, ललित जोशी रातितलाई सहित अनेक पदाधिकारी उपस्थित थे।  

Post a Comment

0 Comments