Headline News
Loading...

Ads Area

गहलोत की शिक्षा नीति के विरोध में दिल्ली में एआईसीसी दफ्तर का होगा घेराव

शिक्षकों के इस विरोध को आम आदमी पार्टी और भीम आर्मी का भी समर्थन
  जयपुर/राजस्थान।। राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व में चल रही कांग्रेस सरकार की शिक्षा नीति के विरोध में 5 फरवरी को दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दफ्तर का घेराव किया जाएगा। प्रदेश के शिक्षक और शिक्षक बनने की कतार में खड़े युवक 5 फरवरी को सुबह 11 बजे दिल्ली में जंतर मंतर पर एकत्रित होंगे और पैदल मार्च कर एआईसीसी के दफ्तर पहुंचेंगे।
Harpal Dadarwal
 राजस्थान संयुक्त शिक्षक मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष हरपाल दादरवाल ने बताया कि गहलोत सरकार की दोषपूर्ण शिक्षा नीति की ओर कांग्रेस के राष्ट्रीय पदाधिकारियों का ध्यान आकर्षित किया जाएगा। शिक्षकों के इस विरोध को आम आदमी पार्टी और भीम आर्मी का भी समर्थन है। घेराव में इन दोनों दलों के भी कार्यकर्ता शामिल होंगे। 
 दादरवाल ने बताया कि इस विरोध प्रदर्शन में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आदि भी भाग लेंगे। दादरवाल ने आरोप लगाया कि अशोक गहलोत के शासन में शिक्षकों के तबादले के नाम पर खुली लूट हो रही है। चूंकि शिक्षकों के तबादलों के लिए कोई नीति नहीं है, इसलिए मनमर्जी से तबादले हो रहे हैं। 
  राजस्थान में सभी वर्ग के शिक्षक और शिक्षा कर्मियों की संख्या करीब 8 लाख है, लेकिन इसके बावजूद भी प्रदेश में कोई तबादला नीति नहीं है। पिछले कई वर्षों से तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले तो हुए ही नहीं है, अब जब विधायकों और प्रभावशाली नेताओं की सिफारिशों पर तबादले हो रहे हैं, तब भ्रष्टाचार का बोलबाला है। उदयपुर संभाग के टीएसपी क्षेत्र में नियुक्ति होने वाले शिक्षकों के तबादले तो हो ही नहीं पाते।
Harpal Dadarwal 
 दादरवाल ने बताया कि शिक्षकों से गैर शैक्षणिक कार्य कराने के कारण विद्यार्थियों का भी नुकसान होता है। ग्रामीण क्षेत्रों में तो अधिकांश कार्य शिक्षकों से ही करवाए जा रहे हैं। विद्यालयों में छात्रों की संख्या के अनुपात में पद ही सृजित नहीं है। शिक्षा विभाग में डीपीसी का कोई कलेंडर भी नहीं है। पूर्व में सरकार ने खेमराज कमेटी गठित की थी, लेकिन इस कमेटी की सिफारिशों को अभी तक भी लागू नहीं किया गया है। संविदा कर्मी शिक्षकों को स्थाई करने की मांग लगातार की जा रही है। 
  दादरवाल ने कहा कि अशोक गहलोत मुख्यमंत्री के तौर पर 15 साल पूरे करने जा रहे हैं। गहलोत के हर कार्यकाल में शिक्षकों और शिक्षा विभाग का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि 5 फरवरी को दिल्ली में घेराव के बाद 14 अप्रैल से शिक्षा बचाओ यात्रा प्रदेशभर में निकाली जाएगी। 5 फरवरी के घेराव और शिक्षा बचाओ यात्रा के संबंध में और अधिक जानकारी मोबाइल नंबर 9414676664 पर हरपाल दादरवाल से ली जा सकती है।

Post a Comment

0 Comments