Headline News
Loading...

Ads Area

महंत नारायणदास स्मृति वार्षिक सम्मान के अन्तर्गत कई विभूतियां सम्मानित

सामाजिक समरसता और माधुर्य प्रसार में साहित्यकार आगे आएं - श्रीमहंत हरिओमदास महाराज
  बाँसवाड़ा/राजस्थान।। जगद्गुरु श्री रामानन्दाचार्य जी महाराज की 123वीं जयन्ती एवं ऐतिहासिक एवं प्राचीन तपोभूमि लालीवाव मठ के महन्त श्री नारायणदासजी महाराज की बीसवीं पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में आयोजित पांच दिवसीय आध्यात्मिक महोत्सव के अन्तर्गत बुधवार रात भजलेराम परिसर में आयोजित साहित्य समारोह में प्रमुख साहित्यकारों एवं साहित्यानुरागियों ने हिस्सा लिया। 
Laliwawmath Banswara
 समारोह लालीवाव पीठाधीश्वर महामण्डलेश्वर श्री महन्त हरिओमदास महाराज की अध्यक्षता तथा केलूखेड़ा हनुमान मन्दिर के महंत एवं प्रसिद्ध कथावाचक संत श्री रामदासजी महाराज के मुख्य आतिथ्य में हुआ। अतिथियों ने मंगलाचरण एवं गुरु वन्दना से समारोह की शुरूआत की। इस अवसर पर संत-महात्मा, महंत, लालीवाव मठ के शिष्य तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
महन्त नारायणदास वार्षिक सम्मान प्रदान
  समारोह में लालीवाव पीठाधीश्वर श्रीमहन्त हरिओमदास महाराज ने कला-संस्कृति, समाज जीवन और साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट एवं उल्लेखनीय योगदान के लिए विशिष्ट विभूतियों को महन्तश्री नारायणदास महाराज की स्मृति में वार्षिक सम्मान श्रृंखला में उपरणा एवं शॉल ओढ़ाकर तथा सम्मान पत्र प्रदान किया।
आचार्य एवं पण्ड्या को साहित्य शिरोमणि सम्मान
 इनमें वरिष्ठ गीतकार श्री हरीश आचार्य एवं लेखक-कवि श्री प्रकाश पण्ड्या को साहित्य जगत के सर्वोच्च सम्मान ‘महंत श्री नारायणदास साहित्य शिरोमणि सम्मान’ से सम्मानित किया गया।
3 गायक कलाकारों को मातंगी सम्मा
  कला और संगीत क्षेत्र में ‘महंत श्री नारायणदास मातंगी सम्मान’ गायक कलाकार श्री वीरेन्द्रसिंह राव तथा भजनगायक श्री हितेष वैष्णव एवं श्री अशोक पालीवाल को प्रदान किया गया।
सतीश आचार्य एवं भंवर गर्ग को ओजस्वी मंच संचालन सम्मान
  समारोह में बहुआयामी कार्यक्रमों में बेहतर संचालन के लिए मशहूर, जाने-माने रंगकर्मी एवं कवि श्री सतीश आचार्य तथा युवा कवि श्री भंवर गर्ग ‘मधुकर’ को ‘महंत श्री नारायणदास ओजस्वी मंच संचालक सम्मान’ प्रदान किया गया।
10 रचनाकारों को साहित्य सम्मान
  इस अवसर पर साहित्य की विभिन्न विधाओं में अपना नाम रोशन करने वाले 10 कवि-कवयित्रियों और लेखकों को ‘महन्त नारायणदास साहित्य सम्मान’ से सम्मानित किया गया। इनमें शायर श्री सईद मंजर, आकाशवाणी के वरिष्ठ उद्घोषक श्री प्रमोद शर्मा(बीकानेर), श्री मोहनदास वैष्णव, श्री जगन्नाथ तेली, श्रीमती ममता सिंह, श्रीमती सारिका भुवन त्रिवेदी(छींछ), श्री अशोक मदहोश, श्री तारेश दवे, श्री सूर्यकरण सोनी ‘सरोज’ एवं श्री हिमेश उपाध्याय शामिल हैं।
लालीवाव मठ की सराहनीय परंपरा अनुकरणीय
  समारोह का संचालन करते हुए उजास परिवार के संयोजक एवं युवा साहित्यकार श्री भंवर गर्ग ‘मधुकर’ ने साहित्य समारोह श्रृंखला के उद्देश्यों व अब तक के सफर पर प्रकाश डालते हुए साहित्य जगत की ओर से तपोभूमि लालीवाव के पीठाधीश्वर का आभार जताया और कहा कि पिछले वर्षों से निरन्तर जारी सम्मान समारोह ने रचनाधर्मिता से जुड़े साहित्यकारों को प्रोत्साहन देते हुए मठ की रचनात्मक भागीदारी का अनुकरणीय आयाम पेश किया है।
Laliwawmath Banswara
समाज को अमृत तत्व से सींचे
  समारोह में अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए लालीवाव पीठाधीश्वर श्रीमहन्त हरिओमदास जी महाराज ने साहित्य समारोह में सहभागिता निभाने वाले प्रमुख साहित्यकारों से समरसमता, माधुर्य और सद्भावना की ज्योत जगाने का आह्वान करते हुए समाज में अमृततत्व के प्रसार पर जोर दिया।
रचनात्मक गतिविधियों में लालीवाव मठ रहेगा हमेशा अग्रणी
  उन्होंने कहा कि बांसवाड़ा में कला-संस्कृति, साहित्य और विभिन्न क्षेत्रों के कर्मयोगियों को प्रोत्साल, सम्बल एवं मंच प्रदान करने की दिशा में लालीवाव मठ अपने सामाजिक एवं आध्यात्मिक सरोकारों के निर्वहन में बहुआयामी गतिविधियों को और अधिक विस्तार देगा।
कवि सम्मेलन में देर रात तक हुई रस-रंगों की बरसात
  समारोह के अन्तर्गत श्री भंवर गर्ग ‘मधुकर’ के संचालन में हुए कवि सम्मेलन में प्रमुख कवियों एवं कवयित्रियों ने सामाजिक एवं राष्ट्रीय सरोकारों, आध्यात्मिक चिन्तन, गुरु महिमा तथा सम सामयिक विषयों पर धारदार कविताओं, गीत-ग़ज़लों और शायरियों से श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया।

Post a Comment

0 Comments