जब एक शादीशुदा मर्द ने बॉयफ्रेंड से कराई पत्नी की शादी

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

जब एक शादीशुदा मर्द ने बॉयफ्रेंड से कराई पत्नी की शादी

   कानपुर।। उत्तरप्रदेश के इस शहर में कुछ ऐसा हुआ जिसे जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे। ये कहानी सुनकर आपको फिल्म ‘हम दिल दे चुके सनम’ जरूर याद आ जाएगी। जिसमें अजय देवगन अपनी पत्नी नंदिनी उर्फ ऐश्वर्या राय की शादी उनके प्रेमी समीर उर्फ सलमान कान से कराने के लिए ऐश्वर्या को सात समंदर पार ले जाते हैं। ऐसी ही कहानी है कानपुर के रहने वाले सुजीत गुप्ता (गोलू) की। जिससे अपनी पत्नी का रोना देखा नहीं गया और उसने अपनी पत्नी की शादी उसके प्रेमी से करा दी। जिसके लिए वो परिवार, समाज सबसे लड़ गया।
ऐसे पता चली गोलू को पत्नी की कहानी
     दरअसल गोलू उर्फ सुजीत की शादी पास के ही गांव में रहने वाली शांति से 19 फरवरी को हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद ही पत्नी बिना कुछ बताए मायके चली गई थी। कई दिनों तक जब पत्नी मायके से वापस नहीं लौटी तो गोलू पत्नी को लेने उसके मायके गया। पत्नी ने गोलू के साथ आने से इंकार कर दिया। गोलू के कई बार पूछने पर भी पत्नी ने कोई जवाब नहीं दिया। जब गोलू ने बार-बार इस बारे में पूछा तब शांति फूट-फूटकर रोने लगी और गोलू को बताया कि वो रवि नाम के एक शख्स से बहुत प्यार करती है। गोलू से उसकी शादी जबरदस्ती उसकी मर्जी के खिलाफ कराई गई है। ये सब सुनकर गोलू बेहद परेशान हो गया लेकिन उसके बाद उसने शांति से वादा किया कि वो रवि और शांति की शादी कराने में मदद करेगा।
शांति के प्रेमी से उसके पति ने की मुलाकात
     अपनी पत्नी के प्रेमी के बारे में जानने के बाद उसके साथ बदसलूकी करने की घटना, उसे मारने की घटना तो आपने कई दफा सुनी होगी। इस कहानी में जैसे ही गोलू को पत्नी के प्रेमी के बारे में पता चला तो गोलू सीधे लखनऊ के गोसाईंगंज में रहने वाले शांति के प्रेमी रवि से मिलने पहुंचा। जब रवि ने भी शांति से शादी करने इच्छा जाहिर की तब गोलू ने दोनों की शादी की प्लानिंग की और लोकल पुलिस को भी सूचित कर दिया।
धूमधाम से की पत्नी की शादी
     कानपुर के पास ही चखेरी गांव के हनुमान मंदिर में गोलू ने शांति और रवि की शादी कराई। पत्नी की शादी गोलू ने धूमधाम से कराई। जिसमें वो पहले तो जमकर नाचा और लोगों को भी नचवाया पर विदाई के वक्त खुद को रोक ना पाया और फूट-फूट कर रोया। स्थानीय लोगों ने सुजीत के इस फैसले की काफी सराहना की। लोगों ने कहा कि गांवों में ऐसा साहसिक कदम जल्दी देखने को नहीं मिलता। एक स्थानीय पुलिस वाले ने कहा कि सुजीत का ये कदम बहुत ही अच्छा और साहसिक है जिसे कोई नहीं भूल सकता।

Ad Code