मलेशिया से भगाए गए सैकड़ों रोहिंग्या मुसलमान भारत में घुसपैठ की तैयारी में

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

मलेशिया से भगाए गए सैकड़ों रोहिंग्या मुसलमान भारत में घुसपैठ की तैयारी में

मलेशिया से भगाए गए सैकड़ों रोहिंग्या समुद्र में फंसे, बांग्लादेश ने कहा नहीं घुसने देंगे, अब भारत में घुसपैठ की तैयारी  
   नई दिल्ली।। मलेशिया से खदेड़े गए सैकड़ों रोहिंग्या समुद्री जहाज में फॅसे हुए है | उन्हें बांग्लादेश ने स्वीकार करने से इंकार कर दिया है | जानकारी के मुताबिक मलेशिया में CAA और NRC लागू होने के बाद अवैध रूप से विदेशियों को खदेड़ा जा रहा है | इसमें बड़ी तादात में भारतीय नागरिक भी है | हालाँकि पहली खेप में रोहिंग्याओं की रवानगी हुई है | बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन ने कहा कि अब किसी भी रोहिंग्या को बांग्लादेश में शरण नहीं दी जाएगी।  
   उधर मलेशिया में भारतीय राजदूत ने कहा है कि वे मलेशियाई सरकार के संपर्क में है | ट्रैवल बैन खुलते ही जल्द फैसला लिया जाने का उन्होंने ऐलान किया है |उनका यह बयान इन खबरों के बीच आया है कि सैकड़ों रोहिंग्या शरणार्थी बांग्लादेश में प्रवेश करने की कोशिश में समुद्र में फंसे हुए हैं। मोमेन ने कहा ”हमने निर्णय किया है कि अब अपने यहां और रोहिंग्या को आने नहीं देंगे। कोविड-19 की स्थिति के मद्देनजर ऐसा किया गया है। जिन क्षेत्रों को हम संरक्षित रखना चाहते हैं, हम वहां किसी भी व्यक्ति को स्वीकार नहीं कर सकते हैं।” 
   मलेशियाई अधिकारियों द्वारा खदेड़े जाने के बाद बुधवार को मछली पकड़ने वाली दो नावों में महिलाओं, पुरुषों और बच्चों सहित लगभग 500 रोहिंग्या बंगाल की खाड़ी में दिखे। इससे एक हफ्ते पहले ही 15 अप्रैल को एक अन्य नौका में करीब 400 रोहिंग्या शरणार्थी बांग्लादेश पहुंचे थे। 
     मोमेन ने स्वीकार किया कि उनके पास दो नावों के बारे में जानकारी है, लेकिन उन्होंने कहा कि वर्तमान में सरकार की प्राथमिकता उन शरणार्थी शिविर क्षेत्रों की सुरक्षा करना है, जहां हजारों रोहिंग्या पहले से ही रह रहे हैं। उन्होंने कहा, ”यह भीड़भाड़ वाला इलाका है। यदि एक संक्रमित व्यक्ति किसी तरह से भी यहां आ जाता है, तो वह सब कुछ खराब कर देगा।” 
    गौरतलब है कि पिछले दिनों म्यामांर से मलेशिया जा रहे 32 रोहिंग्य मुसलमानों की समुद्र में भूख से तड़प-तड़पकर मौत हो गई थी। इनके जहाज को मलेशिया में नहीं घुसने दिया गया इस वजह से ये लोग कई हफ्ते तक समुद्र में भटकते रहे। इनमें कई महिलाएं और छोटे बच्चे भी थे। बांग्लादेश पहुंचने से पहले करीब 32 लोगों की भूख से मौत हो गई। 396 लोगों को बचा लिया गया था। 
पिछले तीन साल से एशिया में रोहिंग्या मुसलमानों की समस्या बनी हुई है
    म्यामांर रोहिंग्या मुसलमानों को अपना नागरिक नहीं मानता है। 2017 में हिंसक घटनाओं के बाद सेना ने रोहिंग्‍या मुसलमानों के खिलाफ दमनचक्र चलाया था। हजारों रोहिंग्या म्यामांर छोड़कर बांग्लादेश सहित दूसरे देशों की ओर पलायन कर गए। बताया जा रहा है कि बड़ी तादात में रोहिंग्या भारतीय सीमाओं में घुसपैठ की तैयारी में है | फ़िलहाल सुरक्षा एजेंसिया उन पर निगाह लगाए हुए है |

Ad Code