Be Alert : सभ्य परिवार की महिला का मुस्लिम जिम में जाना, आबरू भी गई और पति भी मारा गया

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

Be Alert : सभ्य परिवार की महिला का मुस्लिम जिम में जाना, आबरू भी गई और पति भी मारा गया

   मध्यप्रदेश के मंदसौर शहर से आप सभी भली भांति परिचित होंगे, इसी शहर के पद्मावती रिसोर्ट के पास चलता है टोटल फिटनेस नामक एक जिम। इसी क्षेत्र में रहते थे शहर के प्रसिद्ध व्यापारी व मिराज गुटका के डीलर विश्वनाथ वाघोरा S/O कमलाशंकर जिनकी उम्र 35 वर्ष के लगभग है, शुरू में विश्वनाथ उर्फ विष्णु बागोरा के परिवार में सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था साथ ही उनका व्यापार और व्यवसाय भी पटरी पर था। 
   एक दिन विश्वनाथ की पत्नी ने सेहत बनाने के लिए एक मुसलमान का जिम ज्वॉइन किया। बस यंही से इस परिवार के दुर्दिन शुरू हो गए। इस जिम में ट्रेनर का काम करने वाले मोहम्मद अल्ताफ s/o शब्बीर हुसैन निवासी सम्राट रोड़ ने जिम में आने वाली वाघोरा की पत्नी को पर्सनल ट्रेनर द्वारा ट्रेनिंग का सुझाव दिया। बताया जाता है कि अल्ताफ ने वाघोरा की विवाहिता पत्नी को अपना नाम आर्यन बताया। पत्नी उसकी बातों में आ गयी और जिम में उससे पर्सनल ट्रेनिंग लेने लगी। थोड़े ही दिनों में पर्सनल ट्रेनिंग के बहाने अल्ताफ ने बगोरा की पत्नी को फंसा लिया। अल्ताफ ने बगोरा की पत्नी के कुछ अश्लील वीडियो बना लिए। इन वीडियो के चलते वो विवाहिता भी अल्ताफ की बात मानने लगी और पति को उसके साथ मिलकर ब्लैकमेल करने लगी।
    हाल ही में कुछ दिन पूर्व विश्वनाथ अघोरा ने आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि वाघोरा अवैध वसूली और पत्नी के अश्लील वीडियोज के चलते बहुत परेशान हो गए थे। इस एक घटना ने मंदसौर सहित पूरे मध्यप्रदेश को झकझौर कर रख दिया है। लोग पूछ रहे हैं कि ये तो वो मात्र एक घटना जो हम सबके सामने आ गई लेकिन कुछ जिमो की आड़ में चल रहे अनैतिक कामों की एक लंबी फेरहिस्त है उसका क्या होगा ? वंहा के लीडिंग समाचार चैनल्स यह मांग कर रहे है जिम चलाने वाले कुछ चर्चित लोगों की कॉल डिटेल इकट्ठा करनी होगी क्योंकि इस एक घटना के बाद कई घटनाओं की चर्चा सभी जगह चल पड़ी है। 
    बताया जा रहा है कि कई घरों की बर्बादी की नींव इन्ही चंद चर्चित जिमों में रखी गई है। ब्लैकमेलिंग से ले कर पैसो की अवैध वसूली तक का काम यहाँ होता है। बड़े घरों की इज्जत अपने आपकों फिट रखने के लिए इन जिमों में जाती है पर जिम वालों के आकर्षण में फंस कर अपने परिवार की इज्ज़त दाव पर लगा देती है। इससे बचने के लिए कई परिवारों को ले दे कर मामले को वही खत्म कर दिया जाता है। पर मामला वही खत्म नही होता है बल्कि उनके साथ कई और लोगों, परिवारों को इसका शिकार होना पड़ता है। यानी कुछ जिमों में तो बस अपराध और नए अपराधियों का ही जन्म होता है। ऐसे जिमों की व्यापक जांच होनी चाहिए। अपराध और अपराधियों से कनेक्शन रखने वाले लोगों को इस क्षेत्र से दूर करना चाहिए। 
    ऐसे जिम सेंटर जहां महिलाएं भी जिम पर जाती हैं वहां महिला ट्रेनर भी होना चाहिए। साथ ही जिम के परिसर कोई बहुत बड़े नहीं होते हैं, उन भवनों-बिल्डिंगों में जहां जिम संचालित होते हैं, सीसीटीवी कैमरे लगाए जाना चाहिए तथा प्रत्येक हफ्ते की जिम की गतिविधियों की रिकॉर्डिंग स्थानीय कोतवाली पर दी जाना चाहिए, ताकि यह सुनिश्चित हो कि वहां कोई अन्य गतिविधियां संचालित नहीं हो रही हैं।
   ऐसे तमाम जिम सेंटर के संचालकों की पारिवारिक पृष्ठभूमि तथा उनका चारित्रिक प्रमाण भी पुलिस विभाग को प्राप्त हो, ऐसी व्यवस्था भी सुनिश्चित करना चाहिए। इन्ही तरह के प्रावधानों कई घरों, परिवारों की बर्बादी और विश्वनाथ वाघोरा जैसे बेगुनाहों की जान बच सकेगी।
  आपको बताते चले की मुसलमानों का लव जिहाद संपन्न परिवारों की महिलाओं को इसी तरह प्रेम जाल में फंसाकर शारीरिक- मानसिक-और आर्थिक तौर पर परेशान कर धन लूटा जाता है, बाद में मार काट कर फेंक दिया जाता है ऐसे कई उदाहरण है हमारे देश में आपको देखने को मिल जाएंगे। 

सुधांशु
(स्त्रोत-समाचार पत्र)


Ad Code