नहीं पहनेंगे मॉस्क तो हम आपकी ‘आरती’ उतारेंगे

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

नहीं पहनेंगे मॉस्क तो हम आपकी ‘आरती’ उतारेंगे

   वाराणसी।। देश में मास्क पहने और पहनाने को लेकर जहा पुलिस प्रशासन हाल ही में मध्य प्रदेश में एक ऑटो रिक्शा चालक से मारपीट अमानवीय चेहरा सामने आया था वही वाराणसी में एक बार फिर कोरोना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सामाजिक कार्यकर्ता जन जागरूकता अभियान में मानवीय ढंग से जुटे। एक सामाजिक संस्था सुबह-ए-बनारस क्लब के अगुवाई में विशेश्वरगंज-जतनबर स्थित दूध मंडी में जुटे कार्यकर्ताओं ने खासकर ऐसे लोगो जिन्होंने मास्क नहीं पहना था, उन्हें रोककर कार्यकर्ताओं ने उनकी आरती उतार कटाक्ष कर विरोध जताया और उनसे मॉस्क पहनने की अपील की।
    संस्था के मुकेश जायसवाल, समाजसेवी विजय कपूर ने दूध मंडी में दूर-दराज से बिन मॉस्क लगाकर आए दुग्ध विक्रेताओं से बढ़ते कोरोना के प्रभाव को देखते हुए कटाक्ष स्वरूप आरती उतारकर एवं हाथ जोड़कर विनती किया कि वे मॉस्क लगाकर दूध का विक्रय करें। उन्हें समझाया कि आपके द्वारा बेचा गया दूध कितने घरों में जाता है। भगवान ना करे अगर आप कोरोना संक्रमित है, तो आपकी वजह से कोई और परिवार भी संक्रमण का शिकार हो सकता है। इसलिए आप जब भी दूध बेंचे मॉस्क लगाकर ही बेंचे। साथ ही साथ दूध खरीदने आए ग्राहकों से भी निवेदन किया कि वे अपने-अपने घरों,अपने परिचितों और भाई बंधुओं से हाथ जोड़कर जागरूकता हेतु विनती करें। लोग जब भी घर के बाहर निकले कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए निकले। जिला प्रशासन के गाइड लाइन, सोशल डिस्टेंसिंग और मुंह पर मास्क लगाने की आदेशों का कड़ाई से पालन करें।]
    उन्होंने कहा कि हमें कोरोना से लड़ने के लिए वैक्सीन लगाने के बावजूद सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करना होगा। तभी हम सफलतापूर्वक कोरोना से लड़ सकते हैं। विजय कपूर ने कहा कि पिछले साल के मुकाबले इस साल भी कोरोना अपना विकराल रूप धारण करते हुए लोगों को अपना शिकार बना रहा है। पिछले साल कोरोना के वजह से बेपटरी हो चुके व्यापार को पटरी पर लाने के लिए व्यवसायियों द्वारा अथक प्रयास किया जा रहा है। मगर पिछले साल की भांति इस साल भी कुछ ना समझ लोगों की लापरवाही की वजह से कोरोना ने पुनः अपना विकराल रूप दिखाना शुरू कर दिया है। इससे लड़ने का एकमात्र कारगर उपाय सोशल डिस्टेंसिंग, मुंह पर मास्क लगाना और समय-समय पर नियमित रूप से हाथ धोना सिद्ध हुआ है।
    उन्होंने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों ने दिन रात एक करके कोरोना से लड़ने के लिए वैक्सीन बनाया। कोरोना की लड़ाई में हमें उनका साथ देना है। अपने देश अपने परिवार और अपने हित के लिए हमें कदम से कदम मिलाकर कोरोना की जंग में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए इसे अपने देश से भगाना है। जागरूकता अभियान में अमरेश जायसवाल, नंदकुमार टोपी वाले, अनिल केसरी, प्रदीप गुप्त, राजेश केसरी, पंकज पाठक, डॉ मनोज यादव, सुनील अहमद खान आदि शामिल रहे।

Ad Code