आकाशीय बिजली गिरने से राजस्थान का जवान शहीद, 2 दिन पहले ही था बेटे का जन्मदिन

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

आकाशीय बिजली गिरने से राजस्थान का जवान शहीद, 2 दिन पहले ही था बेटे का जन्मदिन

   बांसवाडा का जवान महेंद्र सिंह राणावत शहीद 
Mahendra Singh Ranawat
   बांसवाडा/राजस्थान।। एक तरफ देश में अग्निपथ योजना के विरोध में घमासान मचा हुआ है, वहीं दूसरी तरफ हमारे देश के जवान सेवाभाव और समर्पण से लगे हुए है। वहीं फिर से राजस्थान के एक और वीर जवान की शहादत के समाचार मिले है, पिछले दिनों ही चूरू के वीर जवान कुम्भकर्ण सिंह जी की शहीदी का समाचार प्राप्त हुआ जिसके बाद चारों और मातम सा पसर गया था। 
   
   अब राजस्थान के बांसवाड़ा जिले से एक वीर जाबांज़ सैनिक की वीरगति की खबर मिली है। जानकारी के अनुसार दार्जलिंग में तैनात बांसवाड़ा जिले के रोहनिया (चांदरवाड़ा) तहसील आनंदपुरी निवासी BSF जवान कांस्टेबल महेंद्र सिंह राणावत ऑन ड्यूटी शहीद हो गए। 
Mahendra Singh Ranawat
    बांग्लादेश से सटे सिलीगुड़ी पर तैनात बांसवाड़ा का BSF जवान आकाशीय बिजली गिरने से ड्यूटी पर शहीद हो गया। राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के रोहनिया गांव तहसील आनंदपुरी निवासी महेंद्र सिंह राणावत, 21 बटालियन BSF, बैकुंठपुर (उत्तर बंगाल) में तैनात था। 
    
   बीती शाम गश्त के दौरान बिजली गिरने से महेंद्रसिंह की मौत हो गई। महेंद्र सिंह की करीब 5 साल पहले ही शादी हुई थी। शहीद महेंद्र सिंह राणावत 7 साल पहले ही सेना में भर्ती हुए थे।
Mahendra Singh Ranawat
बिजली गिरने से हुआ निधन
  गुरुवार रात 8 बजे बॉर्डर पर ड्यूटी के दौरान बिजली गिरने से महेंद्र सिंह राणावत जी का निधन हो गया। इनकी ड्यूटी बैकुंठपुर (उत्तर बंगाल) में थी। शहीद महेंद्र जी की जुलाई में ड्यूटी से घर पर छुट्टी आने का प्रोग्राम था।
बचपन में ही उठ गया था मां का साया
   शहीद महेंद्र जी ने बहुत संघर्ष देखा था, बचपन में माँ का साया उनके सिर से उठ गया था, उनका सपना BSF में अफसर (डिप्टी कमांडेंट) बनने का था।
Mahendra Singh Ranawat
बेटे का जन्मदिन 2 दिन पहले ही था
   शहीद महेंद्र सिंह राणावत BSF की 21 बटालियन में 2010 से सेवा दे रहे थे। उनके बड़े भाई भूपेंद्र सिंह ने सुबह अपने भाई से बात भी हुई थी और शहीद महेंद्र जी के 2 पुत्र है जिनमें एक बेटे का जन्मदिन 2 दिन पहले ही था। यह खबर सुनते ही परिवार और गाँव में मातम पसर गया।

Ad Code