अफ़ग़ानिस्तान का मुस्लिम शरणार्थी भारत में 4 साल में कैसे बन गया करोड़ों का सूफी बाबा?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

अफ़ग़ानिस्तान का मुस्लिम शरणार्थी भारत में 4 साल में कैसे बन गया करोड़ों का सूफी बाबा?

चिश्ती ने तालिबान के डर से छोड़ा था अफगानिस्तान
Jarif Baba
   नासिक/महाराष्ट्र।। भारत सरकार द्वारा दिए गए शरणार्थी के दर्जे पर चार साल पहले चिश्ती भारत आया थे। जांच में सामने आया है कि अफगानिस्तान से आने के बाद बाबा कुछ दिन दिल्ली, फिर कर्नाटक और अब पिछले डेढ़ साल से नासिक के येवला के एक छोटे से गांव में रह रहां था। यह बाबा खुद को मोईनुद्दीन चिश्ती का वंशज बताता था। भारत में वो तालिबान द्वारा फांसी का डर बता कर 'शरणार्थी' बनने में कामयाब होकर आया था। 
 बताते चले की नासिक के येवला में अफगानी मूल के 'रिफ्यूजी' ख्वाजा सैयद चिश्ती उर्फ जरीफ बाबा की मंगलवार देर रात हुई हत्या के मामले में एक शख्स को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस, कस्टडी के लिए उसे स्थानीय कोर्ट में पेश किया। हत्याकांड को अंजाम देने वाले अन्य आरोपी अभी फरार हैं। उनकी तलाश में तीन टीमों को लगाया गया है, इनमें से एक टीम जल्द ही उत्तर प्रदेश जाने वाली है।
बॉलीवुड के तीनों खान के नाम का इस्तेमाल कर करोड़ों की कमाई
   इस बीच जांच में यह सामने आया है कि 35 वर्षीय जरीफ बाबा बॉलीवुड के तीनों खान के नाम का इस्तेमाल कर करोड़ों की कमाई कर रहे थे। अपने वीडियो में वे शाहरुख, सलमान और आमिर खान की तस्वीर और उनके एडिटेड वीडियो का इस्तेमाल कर यह बताने का प्रयास करते थे कि 'खान' स्टार्स उन्हें और उनकी बातों को मान कर इतने बड़े बने हैं।
Jarif Baba
  इन वीडियोज के सहारे बाबा के फॉलोअर्स और कमाई में तेजी से हुई वृद्धि के बाद वो IB (इंटेलिजेंस ब्यूरो) के रडार पर आ गया था। वावी पुलिस ने साल 2021 में जरीफ बाबा, उनकी पत्नी और ड्राइवर गफ्फार की जांच करके एक रिपोर्ट 22 अप्रैल 2021 को इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) को सौंपी थी।
   नासिक पुलिस के मुताबिक सूफी जरीफ बाबा की हत्या में उनके ड्राइवर के अलावा उनका अटेंडेंट भी शामिल था। इन्होंने दो अन्य लोगों के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया और उनकी एसयूवी कार (MH 43 BU 7886), दो मोबाइल फोन को लेकर फरार हो गए थे। वारदात के बाद नासिक ग्रामीण पुलिस ने जांच के लिए तीन टीमों का गठन किया है।
Jarif Baba
फिल्म स्टार्स के नाम का इस्तेमाल करने से तेजी से बढ़े फॉलोअर्स
   शाहरुख, सलमान और आमिर खान के नाम और तस्वीरों का इस्तेमाल करने की वजह से कुछ ही समय में बाबा के सब्सक्राइबर की संख्या लाखों में पहुंच गई। उनके एक यूट्यूब चैनल पर 2 लाख 27 हजार, फेसबुक पर 5 लाख और इंस्टाग्राम पर 17.5 हजार से ज्यादा फॉलोअर्स थे। उनके चाहने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही थी। सिर्फ यूट्यूब पर उनके 6 करोड़ से ज्यादा व्यू थे। बाबा के नाम पर दो और यूट्यूब चैनल भी हैं। माना जा रहा है कि ये चैनल भी जरीफ बाबा की कमाई का सबसे बड़ा माध्यम थे। अभिनेता शाहरुख खान के नाम और तस्वीर को जोड़ बाबा ने कई वीडियो बनाए थे।
Sharukh Khan and Jarif Baba
जरीफ बाबा की स्टाइल के मुरीद हो रहे थे लोग
   जरीफ बाबा अपनी बोलने की शैली, लुक और लोगों के इलाज करने के तरीके की वजह से आम लोगों में तेजी से फेमस हो रहे थे। उनके वीडियोज में उन्हें सूफी लिबास में डांस करते हुए देखा जा सकता है। इसके अलावा वे झाड़फूंक के जरिए महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों के इलाज का दावा करते थे। यही वजह है कि देशभर से लोग उनसे मिलने के लिए आने लगे थे। जरीफ बाबा की स्टाइल और उनकी ड्रेसिंग की वजह से उनके फॉलोअर्स बढ़ रहे थे।
कुछ धार्मिक संस्थाएं भी कर रहीं थीं आर्थिक मदद
   बाबा को अपने यूट्यूब चैनल के साथ-साथ कुछ धार्मिक संगठनों से भी बड़ी रकम मिल रही थी। जांच में सामने आया है कि पिछले चार सालों में बाबा की चल-अचल संपत्ति में बेतहाशा वृद्धि हुई, जिससे उनके कई दुश्मन बन गए थे। इनमें से ज्यादातर प्रॉपर्टी बाबा के करीबियों के नाम पर खरीदी गई थीं।
Jarif Baba
  एसपी सचिन पाटिल ने बताया, 'चूंकि सूफी बाबा शरणार्थी थे, इसलिए वह यहां संपत्ति नहीं खरीद सकते थे। उनके पास बैंक खाते नहीं थे, इसलिए उन्होंने अपने एक करीबी के नाम पर बैंक खाता खोला। किसी और के नाम पर एक एसयूवी 500 खरीदी। इसलिए यह ट्रैक करने में थोड़ा समय लग सकता है कि बाबा के पास कितनी प्रॉपर्टी थी।'
जरीफ बाबा के पास 4 करोड़ की प्रॉपर्टी का पता चला
  बाबा की आय का स्रोत सोशल मीडिया में डाले उनके वीडियो थे। जरीफ बाबा अलग-अलग दिन नासिक, कर्नाटक और अजमेर की मजारों में जाया करते थे। वहां बाबा से मिलने हजारों लोग आया करते थे। यह भी उनकी कमाई का एक बड़ा जरिया थे।
  सूत्रों के मुताबिक मौजूदा समय में बाबा के पास 4 करोड़ की प्रॉपर्टी थी। कुछ दिन पहले बाबा ने येवला में 15 एकड़ की जमीन खरीदी थी। यह कहा जा रहा है कि यहीं बाबा अपना स्थाई ठिकाना बनाना चाहते थे। बाबा ने कुछ दिन पहले ही कीमती स्टोन बेचने का बिजनेस भी शुरू किया था। जरीफ बाबा ने सिर्फ 4 साल में भारत में काफी शोहरत और पैसे कमाए।
Jarif Baba
अपनी कथित पत्नी के साथ एक बंगले में रह रहे थे जरीफ बाबा
   नासिक ग्रामीण पुलिस के एसपी सचिन पाटिल ने बताया कि जरीफ चिश्ती दो साल से अधिक समय से वावी थाना क्षेत्र के मीरगांव शिवारा में एक बंगले में रह रहे थे। बाबा के लिए कहा जाता था कि उन्होंने अर्जेंटीना मूल की 28 वर्षीय तिरिना दाऊदी से शादी की थी।
  हालांकि पुलिस को उनके पास से कोई मैरिज सर्टिफिकेट अभी तक बरामद नहीं हुआ है। महिला को हिंदी, इंग्लिश या मराठी नहीं आती है, इसलिए उससे ज्यादा पूछताछ नहीं हो सकी है। महिला के पास साल 2023 तक भारत में रहने का वीजा है। इस वारदात के बाद नासिक पुलिस ने महिला की सुरक्षा बढ़ा दी है।
  सोशल मीडिया के वीडियो में जरीफ बाबा बड़े स्टार्स के नाम का इस्तेमाल कर उनसे अपने कनेक्शन को स्थापित करते थे।
Jarif Baba
हत्या वाली जगह से मिली तंत्र-मंत्र की सामग्री
  ख्वाजा सैयद चिश्ती को येवला में सूफी बाबा के नाम से जाना जाता था। बाबा की हत्या येवला कस्बे के एमआईडीसी इलाके में एक जंगल के अंदर खुले मैदान में हुई है। मौके से पुलिस को कुछ अगरबत्ती, सिंदूर और झाड़फूंक में इस्तेमाल होने वाली सामग्री भी बरामद हुई है। इसलिए पुलिस तंत्र-मंत्र के एंगल से भी इस मामले की जांच कर रही है। सचिन पाटिल ने बताया कि मुस्लिम धर्मगुरु के सिर में गोली मारी गई, जिसके बाद उनकी मौके पर ही मौत हो गई। जरीफ बाबा के लिए कहा जाता है कि उनकी कुछ राजनीतिक दलों के लोगों से भी नजदीकी थी।
Jarif Baba
दो और लोगों को मारना चाहते थे आरोपी
   येवला तालुका के औद्योगिक उपनगर चिचोंडी खुर्द में मंगलवार शाम जरीफ चिश्ती बाबा की हत्या कर दी गई थी। इस संबंध में पुलिस ने अफजल अहमद खान कुर्बान खान (34) की शिकायत पर आईपीसी की धारा 302, 307, 120 (बी), 34 और 3/25 के तहत मामला दर्ज किया है। बाबा के सिर में नजदीक से गोली मारी गई। शिकायतकर्ता ने कहा है कि आरोपियों ने उन्हें और उनके भाई को भी मारने की कोशिश की, लेकिन वे भाग गए। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी एसयूवी कार लेकर फरार हो गए। जरीफ बाबा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए कीमती स्टोन भी बेच रहे थे।

Ad Code