क्या वाकई में गांधी जी गरीब थे?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

क्या वाकई में गांधी जी गरीब थे?

Mahatma Gandhi
  गांधी जी को गरीब दिखाने के चक्कर में उस दौर में लाखों रुपये खर्च होते थे. क्या यह बात सही है या गलत? गाँधी जी, मतलब मोहनदास गाँधी? वो और गरीब? किस हिसाब से और किसने दिखा दिया गाँधी को गरीब? प्रभु, गाँधी ना तो गरीब परिवार से थे, ना ही वे अफ्रीका में गरीब रहे, ना वे भारत आने के बाद कभी गरीब थे।
  पहले गाँधी ऐसे रहते थे और आराम से सारी जिंदगी ऐसे ही रह सकते थे। ये दाईं तरफ कोने में सूट में बैठे हुए मोहनदास करमचंद गाँधी ही है, जिन्हे तत्कालीन अफ्रीकी लोगों की पीड़ा तक का एहसास तक नहीं हुआ था।
Mahatma Gandhi
  फिर वो इंसान अँग्रेजों के सभ्य होने के भ्रम से निकले और उन्होंने भारत को जानने की कोशिश की तो वह ऐसे हो गए।  वे आश्रम चलाते थे, ठीक उसी तरह जैसे कोई भी धर्मार्थ ट्रस्ट आदि चलाती हैं। उनके आश्रम में संग्रह नहीं होता था लेकिन कमी भी नहीं रहती थी।
Mahatma Gandhi
 यदि सिर्फ त्याग करने से ही कोई गरीब कहलाये तो सारे बौद्ध भिक्षु और जैन संत भी गरीब ही कहलाएंगे। श्री राम जब सुविधाओं का त्याग करके जंगल गए थे तो क्या गरीब हो गए थे या त्यागी? आपको बताते चले की तीन जोड़ी धोती में रहना गांधीजी ने खुद चुना था। इसे गरीब होना नहीं कहते। उनकी प्रेरणा से उस वक़्त आधे भारत ने त्याग और अपरिग्रह का पाठ सीखा था, उसे वास्तव में "वस्त्रत्याग" कहते हैं।
Mahatma Gandhi
 गाँधीजी मितव्ययी और त्यागी थे इसलिए उन्होंने अपने वस्त्र और हर तरह के भोग का त्याग करने का रास्ता चुना था।

Ad Code