मासूम की मौत के बाद प्रशासन आया हरकत में झोलाछाप गिरफ्तार, सभी से मांगी डिग्री

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

मासूम की मौत के बाद प्रशासन आया हरकत में झोलाछाप गिरफ्तार, सभी से मांगी डिग्री

किसी की भी डिग्री के ठिकाने नहीं, मर्जी से ठोक रहे है इंजेक्शन और बोटले  
 मासूम बेमौत मारा गया अब फ़िल्मी अंदाज़ में सरकार 
झोलाछाप डॉक्टरों के दवाखानों पर चस्पा किए नोटीस
Notice serve to fake doctor
  बांसवाड़ा/राजस्थान।। बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ चिकित्सा विभाग और सरकार की नाकामी के चलते एक मासूम की मौत के बाद आख़िरकार प्रशासन हरकत में आया है। अब जाकर एक झोलाछाप को गिरफ्तार किया गया है साथ ही झोलाछाप डॉक्टरों के दवाखानों पर नोटीस भी चस्पा किए गए है। वही प्रशासन ने भी ना चाहते हुए अब इन झोलाछापों से उनकी डिग्रियां दिखाने को कहा है साथ ही उन्हें उनकी डिग्रियां नहीं दिखाने सजा भुगतने का भी अल्टीमेटम दिया गया है। 
  बता दे की राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ में ईलाज के दौरान हाल ही में हुई मासूम की मौत के बाद अब प्रशासन पुरी शक्ति से टीम बनाकर झोलाछाप डॉक्टरों की कुंडली खंगालने में जुट गया है। क्षेत्र में कौन वैध और कौन अवैध अवैध है, उसका भी पता लगाने में जुटी टीम अब इन पर शिंकजा कसने को तैयार दिखाई देती नजर आ रही है। 
Notice serve to fake doctor
  जानकारी अनुसार सोमवार को कुशलगढ़ उपखंड अधिकारी द्वारा बनाई गई टीम ने झोलाछाप डॉक्टरों के दवाखानों पर छापें मारी की। टिम ने टिमेडा बस स्टैंड पर आरडी विश्वास के दवाखाने का निरीक्षण किया यहा संचालक मौजूद नहीं था। वही रोगी को ड्रिप चढ़ाई हुई थी टीम ने मुस्तैदी दिखाते हुए मौके से दवाईयां भी जब्त कर ली और क्लिनिक पर नोटिस चस्पा कर दवाखाने को हाथोहाथ सील कर दिया। जाँच के दौरान पांडवा साथ मे सुजन कुमार को टीम ने मरीजों का ईलाज करतें हुए पाया, ड्रिग्री की जांच की तो डिग्री अवैध होना सामने आया। टीम ने कार्यवाही करते ही उसे गिरफ्तार किया गया। इसी प्रकार मुकेश बेरागी नागदा छोटी, संजय रामगढ़ पर नोटिस चस्पा कर दस्तावेज सत्यापन के लिए पांबद किया गया है। वही विभाग ने सभी प्रेक्टिशनरों से से उनकी डिग्रियो का सत्यापन करवाने के लिए आदेश निकाला है। 
Medical Department raid on fake doctor

देखे कैसे मासूम की मौत के बाद मामला सामने आया? 

  सर तन से ज़ुदा के बाद राजस्थान में विकास किस चरम पर हो रहा है इसका अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते है की राजस्थान की कांग्रेस सरकार जब तक किसी की बलि ना लेले तब तक जागती नहीं है। 
Medical Department raid on fake doctor
   राज्य में जहा कोई वकील अन्याय से दुखी होकर मौत को गले लगा रहा है, तो कही बेबस गरीब इलाज़ के अभाव में अकाल मौत का शिकार हो रहा है, तो कही शिक्षा के बर्बाद हो चुके आलम में बच्चे खुद ही चाकू चला रहे है, तो कही बच्चे मास्टरों की ही कुटाई कर रहे है। 
Medical Department raid on fake doctor
मासूम की मौत के बाद ही प्रशासन अचानक से होश क्यों आया? 
  कुछ ऐसे ही सत्यानाश वाले कांग्रेसी विकास की एक नज़ीर हमें राजस्थान के जनजाति बाहुल्य जिले बांसवाड़ा में देखने को मिली जहा जिले की कुशलगढ़ तहसील में इलाज़ के नाम पर एक बंगाली झोलाछाप डॉक्टर द्वारा किये गए इलाज में एक अबोध मासुम की मौत हो गई। 
Medical Department raid on fake doctor
  वही घटना के घट जाने के बाद जैसा फिल्मों में होता आया है ठीक वैसे ही फ़िल्मी अंदाज़ में कांग्रेसी सरकार का मरा हुआ प्रशासन फिर से अचानक से होश में आ गया और सरकार के चिकित्सा विभाग ने तथा-कथित उस मासुम के हत्यारे नीम हाकिम बंगाली झोलाछाप डॉक्टरों पर अपनी छीजत को बचाने के लिए अचानक शिंकजा कसा।    
 Medical Department raid on fake doctor
   वही घटना से आक्रोशित लोगो का कहना है की अगर रिश्वतखोर और कामचोर सरकारी अमला समय पर ज़िंदा हो जाता तो आज यह मासुम अकाल मौत का शिकार ना हुई होती। 
Medical Department raid on fake doctor
झोलाछाप इलाज़ करने वालों की तगड़ी है सेटिंग 
   आपको बता दे की हाल ही में चार दिन पहले राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ में एक मासुम की झोलाछाप लम्फटबाज़ो द्वारा तुक्के में एक मासूम का किये गए ईलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी।
Medical Department raid on fake doctor
 राजस्थान में कांग्रेस का यह कार्यकाल देखे तो कई लोग सरकारी खामी के चलते बेमौत मारे गए है। वही इस घटना ने तो सरकार, प्रशासन व चिकित्सा विभाग की नींद ही उडा कर रख दी है। 
Medical Department raid on fake doctor
फ़र्ज़ी दवाखाना और फ़र्ज़ी ईलाल लेकिन रुपया असली 
   बिना डिग्री के तथाकथित निमहाकिम झोलाछाप बंगाली डाक्टर बेधड़क बैखोफ होंकर नासमझ गरीबो की जान से खेलते हुए ग्रामीण क्षेत्रो में आपको मिल जाएगे जो अपने फ़र्ज़ी दवाखाने चला कर ईलाल के नाम पर अपनी तिजोरियां भरने में कोई कसर बाकी नहीं रख रहें है। 
Medical Department raid on fake doctor
  भले ही इनके ईलाज से किसी की मौत भी क्यों ना हो जाएं। दुसरो के जीवन से इन्हे कोई लेना-देना नहीं है, लोग मरे या जिएं इन्हे तो बस अपनी तिजोरियां भरने में ही दिलचस्पी दिखाईं देती है। 
Medical Department raid on fake doctor
झोलाछाप डॉक्टरों के दवाखानों का पता पहले से ही मालूम
   वही कुछ लोगो ने आरोप लगाते हुए कहा की सरकार, प्रशासन, चिकित्सा विभाग को जिले में सभी झोलाछाप डॉक्टरों के दवाखानों का पता पहले से ही मालूम है, पर सब के सब भिखारियों की तरह इन फ़र्ज़ी झोलाछापो के द्वारा फेके गए टुकड़ों के लिए कुत्ते की तरह दुम हिलाते हुए इनकी खातिरदारी में घूमते-फिरते है। 
Medical Department raid on fake doctor
  वही जब ईलाज के दौरान हुईं इस मौत की खबर जब इन कमीशनखोरों तक पंहुची तों वह बरसाती मेंढक की तरह हरकत में आ गए। 
Medical Department raid on fake doctor
मासुम की मौत के बाद अब चिकित्सा विभाग आया हरकत में
   जानकारों का कहना है की कुशलगढ़ में मासुम की मौत के बाद अब चिकित्सा विभाग हरकत में आया है और सरकार और विभाग की कब्र में घुस चुकी इज़्ज़त को बचाने के लिए धड़ाधड़ छापेमारी की कार्यवाही करने का दिखावा करने लगा है।
Medical Department raid on fake doctor
   वही इस छापेमारी से क्षेत्र के बड़ी सरवा, पाटन, छोटी सरवा, मोहकमपुरा में तथा-कथित रूप से ईलाज कर रुपया बटोरने वाले झोलाछाप डॉक्टरों में हड़कंप सा मच गया है ओर वह अपनी दुकानें बंद कर नदारद हो गए है। वही छापेमारी करने वाले तो बस अपनी बंगले झांकते रह गए है। 
Medical Department raid on fake doctor
  लोगो का कहना था की इन झोलाछापों की मुखबिरी और कमीशन वाली सेटिंग इतनी तगड़ी है की उन्हें इस कारवाही की पहले ही सूचना मिल गई और इनके खिलाफ चला यह अभीयान फोरी कार्रवाई बन कर रह गया। 
Medical Department raid on fake doctor
जनता को भी समझनी होगी अपनी जिम्मेदारी 
   वही कुछ जागरूक लोगो का कहना है कि अभी मोसमी बिमारियों का सीजन है ओर सरकार ने सब सेंटर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व बडे होस्पिटल भी कई खोल रखे है, ऐसे में वहा ईलाज कराना ही कारगर है, बनिस्पत की झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज कराने के, राजनीतिक दलों, जनप्रतिनिधियो और स्वयंसेवी संस्थाओ को भी चाहिए की वो एक जुट होकर दिमक की तरह फेले ईलाज के नाम पर अपनी तिजोरियां भरने वाले इन झोलाछाप डॉक्टरों के विरुद्ध अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करे व सरकार, प्रशासन, चिकित्सा विभाग, पुलिस को भी इन झोलाछापों पर शिकंजा कसना होगा ताकी भविष्य में किसी मासुम की इस कदर मौत ना हो। 
Medical Department raid on fake doctor
  न्युज टुडे टाईम ने जब कुशलगढ़ बीसीएम, एचओ डाक्टर गिरीश भाभोर से इस घटना को लेकर पुछा तो भाभोर ने कहा की तथाकथित निमहाकिम झोलाछाप डॉक्टरों पर अब हमारी टीम नजर बनाए हुए हैं। 
Medical Department raid on fake doctor
  भाभोर का कहना है की अब आगे भी लगातार कार्यवाही जारी रहेगी। साथ ही क्षेत्र के मोहकमपुरा, बस्सी, बड़ी सरवा, पाटन, बिजोरी, व कोटड़ा में भी चिकित्सा विभाग की टीम की नज़र है, बहुत जल्द ही वह इन पर सख्त कार्यवाही करने में भी पीछे नहीं हटेंगे। 

Ad Code