वह मुस्लिम राजकुमारी जो हिन्दू राजकुमार के प्रेम में हो गई थी सती

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

वह मुस्लिम राजकुमारी जो हिन्दू राजकुमार के प्रेम में हो गई थी सती

Firoza and Viramdev
अलाउद्दीन खिलजी की बेटी एक हिंदू राजकुमार के लिए क्यों हो गई थी सती
  अलाउद्दीन खिलजी की बेटी फ़िरोज़ा ने एक बार जालौर के राजा कान्हदेव के पुत्र वीरमदेव को देखा तो वह उसे देखते ही उस पर मोहित हो गई। जब फिरोजा वीरमदेव से मिली तो उसे तुरंत उससे प्यार हो गया, यह बहुत स्पष्ट था क्योंकि वीरमदेव चौहान उस समय के सबसे सुंदर और आकर्षक राजकुमार के रूप में जाने जाते थे।
  फिरोजा ने अपने पिता अलाउद्दीन खिलजी से वीरमदेव चौहान से शादी करने के लिए कहा और खिलजी उसकी इच्छा को पूरा करने के लिए सहमत हो गया। उन्होंने अपनी बेटी की शादी का प्रस्ताव जालोर भेजा और उन्हें भारी मात्रा में दहेज और जमीन देने की भी पेशकश की, लेकिन वीरमदेव ने अलाउद्दीन खिलजी को उसकी बेटी से शादी करने के प्रस्ताव को यह कहते हुए ठुकरा दिया कि "वह अपने पैतृक पक्ष से मिले अपने महान चौहान नाम को एक तुर्क महिला से शादी करके उसका अपमान नहीं कर सकते।" 
Firoza
   जब खिलजी को यह जवाब मिला तो उसने अपना आपा खो दिया और वीरमदेव के राज्य जालोर पर हमला कर दिया। युद्ध में धोखे से खिलजी ने वीरमदेव को हरा दिया और उसके शव के धड़ वाले हिस्से को जला दिया और खिलजी ने वीरमदेव का सिर अपनी बेटी फिरोजा के पास भेज दिया। वही वीरमदेव के प्यार में आसक्त हुई फ़िरोज़ा ने वीरमदेव का कटा हुआ सिर ले लिया और खुद को वीरमदेव के सिर के साथ जला दिया। फ़िरोज़ा ने वीरमदेव के सिर के साथ खुद को भी उसकी पत्नी मानते हुए सती कर लिया। बताया जाता है की फ़िरोज़ा ने वीरमदेव को अपने दिल से अपने पति के रूप में स्वीकार किया था। यही कारण है कि उसे आज तक लोक कथाओं में सती माता फिरोजा देवी के रूप में संबोधित किया जाता है। वैसे भारत वासियो के लिए यह सबसे बड़ा आश्चर्य है कि भारतीय फिल्म निर्माताओं ने इस खूबसूरत और दिल को छूने वाली प्रेम कहानी पर एक भी फिल्म आज तक क्यों नहीं बनाई? 

Ad Code