जुआघर पर छापेमारी ने पुलिस पर ही सवालिया निशान क्यों छोड़ दिए?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

जुआघर पर छापेमारी ने पुलिस पर ही सवालिया निशान क्यों छोड़ दिए?

अवैध जुआ सट्टा पर छापेमारी 4 लाख से भी अधिक की नकदी बरामद, मुख्य आका मौके से फरार
Police Raid Banswara
  बांसवाड़ा/राजस्थान।। देर से ही सही लेकिन पुलिस कभी कुछ तो काम करके बता ही देती है हाल ही में राजस्थान मध्य प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्र में बड़े पैमाने पर एक जुआघर का बिंदास संचालन कई समय से मिलीभगत और कमीशनखोरी के चलते हो रहा है। शायद यहाँ हमें यह बताने की ज़रूरत नहीं की इस मिलीभगत के खेल में कौन-कौन हिस्सेदार हो सकते है, क्योंकि इस बात को हमारे दर्शक हमसे बेहतर समझते है। बता दे कि राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ तहसील के पाटन पुलिस थाना क्षेत्र से महज छह किलोमीटर की दूरी पर मध्यप्रदेश की सीमा से सटे पिपलीपाडा में अंतरराज्यीय जुआघर संचालन हो रहा था जिसकी जानकारी पर पुलिस ने छापा मार कर 19 सटोरियों को मौके से गिरफ्तार कर उनके कब्ज़े से 4 लाख 36 हजार रुपए बरामद किया है। बांसवाड़ा जिले के विशेष पुलिस दल के तहत इस कार्रवाई को गोपनीय तरीके से अंजाम दिया गया। 
  वही सम्बंधित क्षेत्र के पाटन थानाधिकारी भवानी शंकर खराड़ी को उनके गैरजिम्मेदाराना रवैए के चलते वहा से हटा दिया गया। बताया जा रहा है की राजस्थान के बांसवाड़ा जिले मे यह जुआ सट्टे कि पुरे जिले में अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही है। पुलिस द्वारा उक्त कार्यवाही पाटन थाना क्षेत्र के मध्य प्रदेश सीमा से सटे पिपली पाड़ा गांव में की गई।
आधा दर्जन वाहन सहित डेढ़ दर्जन से अधिक जुआरी धरे गए
  छोटी सरवा पाटन थाना क्षेत्र के मध्य प्रदेश सीमा से महज 1 किलोमीटर पहले मुखबीर की पुख्ता जानकारी के बाद में बांसवाड़ा डीएसटी टीम ने यह छापेमारी की कार्यवाही की जहां पर पिपलीपाड़ा गांव में छप्पर डले दो कमरों के एक मकान पर जिले की स्पेशल टीम के प्रभारी सूर्यवीर सिंह ने करीब 1 माह पूर्व से अवैध रूप से चल रहे जुआघर पर छापा मारा। वही इस छापामार कार्यवाही में 19 लोगों को मौके से डीएसटी टीम द्वारा दबोचा गया। साथ ही मौके से 6 वाहन भी डिटेन किए गए है।
  बता दे कि बिते शनिवार रात हुई इस कार्यवाही से पूरे जिले में हड़कंप मच गया कार्यवाही के दौरान जुआरियों से साढे चार लाख रुपए से भी ज्यादा केश बरामद किया गया है। साथ ही जुआरियों से 20 मोबाइल सहित एक दर्जन से अधिक की ताश के पत्तो की कैट बरामद की गई है।
   मामले की गंभीरता देखकर पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा मौके पर पहुंचे तथा पुलिस के आला अधिकारियों से कार्यवाही संबंधित जानकारी जुटाई। इस दौरान कुशलगढ़ डीएसपी बलवीर मीणा मौके पर तैनात रहे वही आंबापुरा, कुशलगढ़, क्यूआरटी मोबाइल कंट्रोल यूनिट आला अधिकारियों सहित बड़ी संख्या में पुलिस बल भी मौके पर मौजूद रहा।
इस तरह हुई कार्यवाही
  मुखबिर की पुख्ता जानकारी के बाद में सूर्यवीर सिंह के नेतृत्व में डीएसटी टीम पाटन थाना क्षेत्र के पिपली पाड़ा गांव में पहुंची जहां पर उन्होंने अपने वाहन डेढ़ किलोमीटर दूर खड़े कर पूरी टीम पैदल ही कथित तौर पर मकान में चल रहे जुआ घर तक पहुंची, जहां पर पुलिस टीम को देखकर कई जुआरी भागने में सफल हुए। वहीं 19 लोग डीएसटी टीम के हत्थे चढ़े। साथ ही मौके से 4,36,180 रूपये नगद सहित छह वाहन सहित 12 ताश की गड्डीया भी बरामद की गई है।
इतने बड़े पैमाने पर चल रहे जुवाघर की पाटन पुलिस को क्यों नहीं थी भनक?
 पाटन थाना क्षेत्र में चल रहे अंतरराज्य का  जुआघर पकड़ में आने के बाद में पाटन पुलिस की कार्यप्रणाली पर कई प्रश्नचिन्ह खड़े हो रहे हैं, इतने बड़े पैमाने पर चल रहे जुआघर बिना पुलिस की जानकारी में आए कैसे संचालित हो रहे थे? वही बड़ी सरवा बीट प्रभारी को इतने बड़े पैमाने पर चल रहे जुआ घर की भनक क्यों नहीं थी? वही जानकारों का कहना है कि इतने बड़े पैमाने पर चल रहे जुवाघर पाटन पुलिस के बिना मिलीभगत के संचालित होना मुमकिन नहीं है। 
परेशान होते रहे मीडियाकर्मी
  सुबह 9:00 बजे के आसपास जैसे ही घटना की जानकारी मीडिया में आने के बाद में समस्त मीडिया कर्मियों ने पाटन थाने का रुख किया। पाटन थाना पहुंचे मीडिया कर्मियों को कार्यवाही चल रही है, कार्यवाही पूर्ण होते ही जानकारी दी जाएगी ऐसा कहते हुए फोटोग्राफ तथा वीडियोग्राफी नहीं करने दी गई। दो बजे तक मीडिया कर्मी कार्यवाही की सूचना का इंतजार करते रहे। इसके बाद एसपी राजेश मीणा से कार्यवाही की जानकारी जुटाने की कोशिश की गई। एसपी मीणा ने स्थानीय अधिकारियों से जानकारी ले लेना ऐसा कहते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया।
यह लोग आए पकड़ में
   अबूबकर पुत्र तहुर मोहम्मद निवासी रतलाम मध्य प्रदेश, शराफत पुत्र कयूम मंसूरी निवासी नागदा मध्य प्रदेश, राहुल पिता विनोद जाति जैन निवासी पालिया जिला उज्जैन मध्य प्रदेश, पंकज पिता गेंदालाल जाति जैन निवासी कुशलगढ़, मुस्ताक पुत्र नूर मोहम्मद जाति हमाल निवासी नागदा मध्य प्रदेश, अशोक पुत्र हुकुमचंद जाति दर्जी निवासी नागदा मध्य प्रदेश, शाहरुख पुत्र फरजमान जाती मुसलमान निवासी थांदला मध्य प्रदेश, मुबारिक हुसैन पुत्र साबिर हुसैन जाति मेवाती इंदौर मध्य प्रदेश, आशिक खान पिता बाबू खान जाति मुसलमान इंदौर मध्य प्रदेश, विक्रमसिंह पिता लूणसिंह जाति झाला निवासी बड़ी सरवा, खाजू पुत्र राशिन मंसूरी निवासी बनबना जिला उज्जैन मध्य प्रदेश, इकबाल पठान पुत्र कल्लू पठान जाति मुसलमान रतलाम मध्य प्रदेश, नरसिग पुत्र लालू जाति अमलीयार निवासी पिपली पाड़ा, भारतु पिता पिता जाति डामोर निवासी खेरदा, जफर पुत्र दिल शेर जाति मेवाती निवासी नागदा मध्य प्रदेश, जोहेब शेख पुत्र मोहम्मद हनीफ जाति शेख रतलाम मध्य प्रदेश, गुलशेर पुत्र शफीक खान जाति मुसलमान निवासी बालाराम की कुटिया जिला उज्जैन मध्य प्रदेश, पारस पुत्र गणपत लाल जाति तेली कुशलगढ़, कमलेश्वर पुत्र रमाकांत जाती चौधरी निवासी टापरी जिला उज्जैन मध्य प्रदेश शामिल है। 
Inspector Bhawani Shankar Kharadi
पाटन पुलिस थाने की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह?
  पाटन पुलिस थाना क्षेत्र से महज छह किलोमीटर दूर स्थित पिपली पांडा में अंतरराज्यीय जुआघर लम्बे समय से चल रहा था तो पाटन पुलिस थाने के संबन्धित बीट प्रभारी, बीट हेड कांस्टेबल व एएसआई पर कार्यवाही क्यों नहीं की गई? सवाल यह भी उठता है कि जिस पिपलीपाडा में जुआघर संचालित होता था, उसी गांव में सरपंच व वार्ड पंच रहते हैं, उन्होंने बात क्यों छिपाई? वही पत्रकारों ने जब पाटन बड़ी सरवा पिपलीपाडा में जाकर लोगों से पुछा तो लोगों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि पाटन पुलिस थाना क्षेत्र में कुल 20 ग्राम पंचायते आती है जिनमे दरोबडीया, बड़ी सरवा, पाटन, सरोना, वरसाला, महुडा, शोभावटी, चोखवाडा,  बस्सी, रुपगढ, सातलिया, भंवरदा, मोहकमपुरा, बावलियापाडा, गोपालपुरा, बावड़ी निनामा कोटड़ा राणगा, खजुरा, बिजोरी कुल 20 पंचायतो के राजस्व गांव मजरे ढाणीया मिलाकर 150 गांव इस पाटन पुलिस थाना क्षेत्र में आते है। 
स्कूली बच्चे और किशोर भी है पर्ची कटवाने की लत मे
   थाना क्षेत्र मे जहा आजादी दिवस की पूर्व संध्या से एक रोज पहले ही जहा डीएसटी और पुलिस अधिक्षक की सूझबुझ से जुआखाने के बडे रैकेट के पर्दापाश गई है। वही जहा युवा पीढी पढाई को छोडकर स्कूल समय में रेसर और बाद मे घर से मिली जेबखर्ची से पर्चिया सट्टे की कटवाकर ज्यादा पैसा कमाने की होड मे लग गए है। 
  रविवार को बडी सरवा मैन चौराहा चाय की थडी लगाने वाले एक काका ने पत्रकार को बातचीत में बताया कि मेरा नाम मत लेना पर बडी सरवा इमली के नीचे सट्टा ऑनलाइन कल्याण, मिलन, टाइम मे करीब रोजाना पचास हजार की पर्चिया कटती है। वही छोटी सरवा जैन उपाश्रय के पीछे तो एक लाख तक का रोज अवैध कारोबार भी हो रहा है, जिसमे स्कूली बच्चे जिनमे कक्षा 9 से 12 तक के छात्र इसकी जद मे आ चुके है। मोहकमपुरा मे तो थांदला से लोग आकर तरालिया रोड पर दो साल से जुआ सट्टा चला रहे है। आखिर इस गौरख और गैरकानूनी धंधे पर कब लगाम लगेगी? यह तो आने वाला समय बताएगा।
बंदी का खेल पुलिस हो गई फेल 
   मध्यप्रदेश के रतलाम तथा झाबुआ ये दो जिलो की सीमा से लगता पाटन पुलिस थाना है। इस पाटन पुलिस थाना क्षेत्र के पंचायत मुख्यालय से लेकर मजरा ढाणी राजस्व गांवों में अवैध शराब के अड्डे धडल्ले से बेरोक-टोक चलते है, जिसमे प्रति अड्डों से 500 रुपयों से लेकर 1 हजार रूपये तक की मासीक बंधी भी पुलिस के जेब में जाती है। वही क्षेत्र मे पिछले दो सालों में हुईं छोटी बड़ी चोरियों का आज तक पाटन पुलिस चोरो का पता लगाने में नाकामयाब रही है। वही यदी मिडिया में पाटन पुलिस के खिलाफ समाचार छपता है तो मीडीया को ही उलटे भला बुरा कहां जाता है? क्षेत्र में अवैध वाहनों पर भी कार्यवाही नहीं होती, नाबालिग हों या बालिग रिपोर्ट के तुरन्त बाद पुलिस एक्सन नहीं लेती जिससे परिवादी हताश हो कर उच्चाधिकारियों को परिवाद देने के बाद भी कार्यवाही नहीं होना सरकारी तंत्र के लिए ही जांच का एक विषय बन जाता है। जब पुलिस के खिलाफ कार्रवाई होती है तों मिडीया को भी घटनाक्रम की जानकारी के लिए गेट पर इंतजार करना पड़ता है? क्या राजस्थान सरकार व गृह मंत्रालय व पुलिस के आलाधिकारी सिर्फ थानाधिकारी को सम्बंधित थाने से हटा कर इतीश्री करेंगे या पुरे थाने के स्टाफ को हटाएंगे। क्योंकि इस घटनाक्रम से बड़े पेमाने पर पुलिस की छवी धुमील हुई है। आमजन में विश्वास और अपराधियों में डर का पेगाम देने में पाटन पुलिस क्यों फिसड्डी रही यह बड़ी जांच का विषय है। 
घटनाक्रम की शुरुआत में क्या कुछ हुआ था?
    राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के पाटन थाना एमपी बार्डर पीपलीपाडा मे मुखबिर की पुख्ता जानकारी के बाद डीएसटी टीम मे छापामार कारवाई कर लंबे समय से चल रहे अवैध जुआ सट्टा केंद्र पर छापेमारी की कारवाई की है। जानकारी अनुसार उक्त कार्रवाई को डीएसटी प्रभारी सूर्यवीरसिह ने अपनी टीम के साथ दिया अंजाम दिया है। 
डेढ कि.मी. पैदल दौडकर जुवारियों की हुई धरपकड
 वही पुलिस द्वारा कार्रवाई की भनक लगते ही जुआरी भागने लगे तो पुलिस ने करीबन डेढ कि.मी. पैदल दौडकर जुवारियों की धरपकड की कार्रवाई को किया। 
डेढ दर्जन जुआरी मौके से पकडे 
  खबर मिलने तक डेढ दर्जन जुआरी मौके से पकड मे आने की जानकारी है। वही पकडे गए जुआरियों से तक़रीबन 4 लाख से भी अधिक नकदी की बरामदगी की भी खबर सामने आ रही है। 
अन्तर्राज्यी गिरोह लंबे समय से है सक्रीय 
   जानकार सूत्रो ने बताया अन्तर्राज्यी गिरोह लंबे समय से राजस्थान और मध्य प्रदेश के सीमावर्ती इलाकों में अवैध जुआघर 

  सुबह थाने मे पहुंचकर एसपी राजेश मीणा और डीएसपी कानसिंह भाटी ने कुशलगढ डीएसपी और पाटन थानाधिकारी भवानीशंकर से इस सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी ली है। 
मुख्य आका मौके से हुआ फरार
  सूत्रो के हवाले खबर लगी की पकडे गए लोग और नकदी भी कई ज्यादा थी, वही इस जुआघर का संचालन करने वाले मुख्य आका मौके से फरार होने की बात भी सामने आ रही है। वही घटनाक्रम के लिए मिडियाकर्मी भी अधिकारियो की बाइट और फोटो, विडियोग्राफी के लिए चार घंटे से है मौके पर प्रतिक्षारत है, जिससे पुलिस थाना पाटन छावनी में तब्दील हुआ दिखाई दे रहा है। 

Ad Code