कॉलेज तो है लेकिन पढ़ाने वाला कोई नहीं, अब छात्रों के आंदोलन के आगे झुकी सरकार

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

कॉलेज तो है लेकिन पढ़ाने वाला कोई नहीं, अब छात्रों के आंदोलन के आगे झुकी सरकार

  भील प्रदेश विद्यार्थी मोर्चा व महाविद्यालय के छात्रों के आंदोलन के आगे झुकी सरकार
कॉलेज प्रशासन ने मानी वाजीब मांगे
  बांसवाड़ा/राजस्थान।। राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ में स्थित मामा बालेश्वर दयाल महाविद्यालय में कई समय से रिक्त चल रहे व्याख्याता के पदो को लेकर भील प्रदेश विद्यार्थी मोर्चा व महाविद्यालय के छात्रों की आख़िरकार सरकार व कॉलेज प्रशासन ने कुछ मांगें मान कर व्याख्याताओं के रिक्त पदों को भरने की बात सामने आई है। वही राजस्थान की कांग्रेस सरकार राहुल गाँधी की भारत जोड़ों यात्रा में ना जाने क्या जोड़ने निकली है? जहा कॉलेजों और स्कूलों में टीचर ही पढ़ाने वाले नहीं है, ऐसे में कांग्रेस की गहलोत सरकार को सोचना होगा की जनता के ईमानदारी के टैक्स के पैसों को कांग्रेस की फ़र्ज़ी भारत जोड़ो नौटंकी में फूँकने से कई गुना बेहतर यह होगा की कांग्रेस शिक्षा, स्वास्थ्य और रोज़गार पर उन पैसों को खर्च करें। क्योकि भारत तो कब से जुड़ा हुआ ही है, उसे कांग्रेस की इस नौटंकी से कोई लेना-देना नहीं है। देश जुड़ा हुआ है इसलिए तो देश के युवा आज अपने अधिकारों के लिए कॉलेज और स्कूल तक पर तालाबंदी करते देर नहीं कर रहे है। हां टूटी-फुंटी कांग्रेस को जोड़ने की बात हो तो वो बात अलग है, जिसका आम जनता के हित से कोई लेना-देना नहीं है।   
 
  भील प्रदेश विद्यार्थी मोर्चा ने छात्र-छात्राओं के हितों के लिए कुशलगढ़ उपखंड अधिकारी को व्याख्याताओं के उक्त कॉलेज में चल रहे रिक्त पदों को भरने के लिए ज्ञापन सौंपा था। छात्र संगठन के द्वारा 16 सितबंर तक उक्त रिक्त पदो को भरने की चेतावनी भी दी गई थी। उसी के मद्देनज़र आज कॉलेज के छात्रों ने कुछ देर के लिए कॉलेज के मेन गेट पर अपनी जायज़ मांगो को लेकर ताला लगा दिया था। 
Mama Baleshwar Dayal College
  
  वही सुचना पर कुशलगढ़ तहसीलदार विरेन्द्र सिंह राठौड़ मौके पर पहुंचे। जहा मामा बालेश्वर दयालु महाविद्यालय के प्राचार्य लक्ष्मणलाल परमार को मौके पर बुलाकर बताया की उक्त महाविद्यालय में सरकार तथा कॉलेज प्रशासन ने विद्या संबल योजना के अंतर्गत हिन्दी साहित्य, अंग्रेजी साहित्य, इतिहास, राजनीतिक विज्ञान व प्राणीशास्त्र के एक-एक पदों को भर दिया गया है। साथ ही दो व्याख्याताओ ने उक्त कॉलेज में ज्वाइनिंग भी दे दी है। वही बचे तीन व्याख्याता आज ज्वाइनिंग कर लेगे, कॉलेज के प्राचार्य लक्ष्मणलाल परमार ने बताया कि 30 सितबंर तक कुछ अन्य बाकी पदों को भरने की प्रक्रिया अभी चल रही है। 
Mama Baleshwar Dayal College
 
  परमार ने बताया कि वर्तमान में कुल 2 स्थाई सह व सहायक आचार्य एव विद्या संभल योजना के तहत 5 अतिथी शिक्षक यहाँ कार्यरत है। वही विद्या संभल योजना में 30 सितम्बर तक तक गणित, भौतिक शास्त्र, वनस्पति शास्त्र, रसायन शास्त्र, भुगोल व हिन्दी के अतिथी शिक्षक भी यहाँ अध्यापन करवाने हेतु उपस्थित हो जाएंगे। 
Mama Baleshwar Dayal College
   
   परमार ने यह भी बताया कि राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा भी नवचयनित स्थाई सहायक आचार्य भी जल्दी ही महाविद्यालय में कार्य ग्रहण करेंगे। इधर छात्रसंघ अध्यक्ष मनीष मुणीया ने तहसीलदार विरेन्द्र सिंह राठौड़ व महाविद्यालय के प्राचार्य लक्ष्मणलाल परमार के सामने छात्र-छात्राओं को अवगत कराया व महाविद्यालय गेट का ताला खुलवाया। वहीं भील प्रदेश विधार्थी मोर्चा के कार्यकर्ता कुशलगढ़ उपखंड अधिकारी कार्यालय पहुंचे तथा तहसीलदार विरेन्द्र सिंह राठौड़ को भी अपनी मांगों की जानकारी दी। 
   उन्होंने बताया कि अनुसार मामा बालेश्वर दयालु महा विद्यालय कुशलगढ़ में कुल 37 पद स्वीकृत हे जिसमें वर्तमान में कुल 10 पदो पर ही कर्मचारी कार्यरत हैं, यहाँ कुल रिक्त पद 25 है, प्राचार्य एवं उपाचार्य ये दोनों पद रिक्त हैं। वहीं हिन्दी साहित्य, अंग्रेजी, इतिहास के पद विश्व संभल योजना के अंतर्गत भर दिये गए है। समाजशास्त्र के दो पद है, जिसमे से एक पद कार्यरत व एक पद सहायक आचार्य संविदा पर कार्यरत हैं।
  
  राजनीतिक विज्ञान में कुल दो पद स्वीकृत है जिसमे दोनो रिक्त पद पर विद्या संभल योजना में एक पद भरा जा चुका है। अर्थशास्त्र में एक पद है वो अभी रिक्त हैं। भुगोल में तीन पद है जिसमे एक पद पर कार्यरत हैं, वहीं दो पद रिक्त हैं। संस्कृत का भी पद रिक्त हैं। प्राध्यापक विज्ञान संकाय नील है, गणीत का पद रिक्त हैं, भौतिकशास्त्र का भी पद रिक्त हैं, रसायन शास्त्र, वनस्पतिशास्त्र, प्राणीशास्त्र, पुस्तकालयाध्यक्ष पीटीआई, लेखाकार, सहायक प्रशासनिक अधिकारी का पद भी रिक्त हैं। वहीं यु.डी.सी. का पद भरा हुआ है। एलडीसी के दो पद है, जिसमें एक पद रिक्त हैं, लेब असिस्टेंट के दोनों पद रिक्त हैं, चतुर्थ श्रेणी के कुल पांच पद है जिसमे दो पर कार्यरत व तीन पद रिक्त हैं, बुक लिफ्टर का एक पद है वो भी रिक्त हैं।
  
  इधर भील प्रदेश विद्यार्थी मोर्चा के अध्यक्ष संतोष निनामा सहित सभी पदाधिकारियों व महाविद्यालय कुशलगढ़ के छात्र एवं छात्राओं ने बताया कि यदी 30 सितबंर तक सभी पद नहीं भरे गए तों आगे आंदोलन की रुपरेखा तय की जाएगी। देखना यह होगा कि राजस्थान सरकार व कॉलेज प्रशासन 30 सितबर तक छात्र-छात्राओं की इन जायज़ मांगों को पूरा कर पाता है या नहीं यह तों वक्त ही बताएगा। 

Ad Code