Headline News
Loading...

Ads Area

खैट पर्वत का गुप्त रहस्य, जिसे आज भी कोई नहीं सुलझा पाया

परियां आस-पास के गांवों की करती हैं रक्षा 
Khait Prwat
  खैट पर्वत उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र के टिहरी जिले के घनसाली में स्थित एक प्रसिद्ध पर्वत है। खैट पर्वत को "परियों का देश" भी कहा जाता है। कहा जाता है कि यहां परियों का निवास स्थान है। खैत पर्वत समुद्र तल से लगभग 10500 फीट की ऊंचाई पर है। खैत पर्वत से मंदार घाटी के खूबसूरत नज़ारे दिखाई देते हैं और कुछ हिमालय पर्वतमालाएँ भी यहाँ से दिखाई देती हैं।  
Khait Prwat Ka Gupt Rahasya
  उत्तराखंड के ऋषिकेश से आप सड़क मार्ग से गढ़वाल क्षेत्र के फेगुलीपट्टी के थात गॉव तक किसी सवारी से पहुंच सकते हैं। यहां से पैदल परियों की नगरी तक यात्रा करनी पड़ती है। थात गांव के पास ही गुंबदाकार का पर्वत है, जिसे खैट पर्वत कहते हैं। कहते हैं यहां लोगों को अचानक ही कहीं परियों के दर्शन हो जाते हैं। लोगों का ऐसा मानना है कि परियां आस-पास के गांवों की रक्षा करती हैं।
  थात गॉव से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर खैटखाल नाम का एक मंदिर है जिसे यहां के रहस्यों का केन्द्र माना जाता है। यहां परियों की पूजा होती है और जून के महीने में मेला लगता है।
  परियों को चटकीला रंग, शोर और तेज संगीत पसंद नहीं है इसलिए यहां इन बातों की मनाही है। यहां एक जीतू नाम के व्यक्ति की कहानी भी काफी चर्चित है। कहते हैं जीतू की बांसुरी की तान पर आकर्षित होकर परियां उसके सामने आ गईं और उसे अपने साथ ले गईं।
Khait Prwat Ka Rahasya
  यहां एक रहस्यमयी गुफा भी है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसके आदि अंत का पता नहीं चल पाया है। इस स्थान का संबंध महादेव द्वारा अंधकासुर और देवी द्वार शुंभ निशुंभ के वध से भी जोड़ा जाता है। कुछ लोग अलौकिक कन्याओं को योगनियां और वनदेवी भी मानते हैं।
  अगर आप रोमांच चाहते हैं तो एक बार जरूर यहां की सैर कर सकते है। यहाँ परियां मिले या ना मिले लेकिन आपका अनुभव किसी परिलोक की यात्रा से कम नहीं होगा।

Post a Comment

0 Comments