Headline News
Loading...

Ads Area

बेटी का गुल्लक लेकर कलेक्टर को रिश्वत देने पहुंचा मजदूर

बोला- बेटी का नाम चेंज कराने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने लिया 800 रुपये खर्चा,
अब कलेक्टर को खर्चा पानी देने आया हूं
  विदिशा/मध्यप्रदेश।। बीजेपी सरकार में मध्य प्रदेश मे भ्रष्टाचार के हालात इतनी चरम पर पहुंच चुके है, कि एक बेटी का नाम परिवर्तन के लिये दर-दर भटक रहा एक मजदूर अपनी जमा पूंजी का गुल्लक लेकर कलेक्टर को रिश्वत देने जा पहुंचा। मध्यप्रदेश के विदिशा जिले से ऐसा ही एक अनोखा मामला सामने आया है। जहां एक गरीब मजदूर अपनी बेटी का नाम परिवर्तित कराने के लिए गुल्लक लेकर रिश्वत देने कलेक्ट्रेट पहुंच गया। मजदूर ने बताया कि वह कई बार तहसील और आंगनबाड़ी के चक्कर लगा चुका हूं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उसने बताया कि आंगनबाड़ी में भी खर्चा पानी देना पड़ा, तो उसे लगा कि कलेक्टर साहब को भी खर्चा देना पड़ेगा, इसलिए उसे जिला कलेक्ट्रेट गुल्लक लेकर आना पड़ा।
mazdoor
  दरअसल जिले की ग्यारसपुर तहसील के ग्राम हैदर गढ़ निवासी जसवंत कुशवाहा अपनी बेटी पलक का नाम बदलवाने के लिए विदिशा के कलेक्टर ऑफिस पहुंचा। जसवंत कुशवाहा ने बताया कि वह अपनी बेटी का नाम बदलवाने के लिए कई बार आंगनबाड़ी के चक्कर लगा चुका है। इतना ही नहीं वह अपनी तहसील में भी कई बार आवेदन चुका है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।
  मजदूर ने बताया कि उसे लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। इसलिए उसने नाम चेंज कराने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को 800 रुपये खर्चा पानी भी दिया है। उसे लगा कि कलेक्ट्रेट में भी पैसा देना पड़ेगा। इसलिए वह अपनी बेटी का गुल्लक लेकर कलेक्टर साहब के पास आया है। वहीं इस मामले में जिला कलेक्टर ने भरोसा दिलाया है। उन्होंने कहा कि आज ही काम हो जाएगा।

Post a Comment

0 Comments