Headline News
Loading...

Ads Area

सट्टा बाज़ार का दावा विधानसभा चुनाव में बीजेपी का जाना तय

      इंदौर शब-ए-मालवा का ख़ास शहर है. ये मध्य प्रदेश की बिजनैस कैपिटल भी है. लेकिन इसकी एक दूसरी पहचान भी है जो इसे चुनावी दौर में नई सुर्खियों में ले जाती है. कॉटन इंडस्ट्रीज के कारण कभी धन्नासेठों का शहर कहलाने वाले इंदौर में एक खास कारोबार सट्‌टे का भी है. इसका नेटवर्क और लिंक देश और दुनिया से जुड़ा हुआ है. एक ज़माने में यहां के नगर सेठ सरसेठ हुकुमचंद दुनिया भर में चलने वाले कॉटन के सट्‌टे के बेताज बादशाह थे. वो अमेरिका के कॉटन सट्‌टे के भाव यहां से खोलते थे.
      आज उसी परंपरागत बाजार में चुनावी सट्‌टे की गरमी छाई हुई है. मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ की चुनावी हार-जीत तय हो रही है. मुंबई, राजस्थान के नेटवर्क से चलने वाला यह बाजार सत्ता के सेमिफाइनल में कांग्रेस और भाजपा की हार-जीत पर दांव लगा रहा है. अनुमान है कि देश भर के सटोरियों के दम पर चल रहा ये कारोबार 20 हजार करोड़ तक का हो सकता है.
      सट्‌टा बाजार के मुताबिक, मध्य प्रदेश, राजस्थान में कांग्रेस आगे है, वहीं छत्तीसगढ़ में पांच सीटों के अंतर से चुनाव नतीजे भाजपा के पक्ष में हैं. पिछले एक हफ्ते में मामूली फेरबदल से यही स्थितियां बनी हुई है. सट्टा बाजार में चल रही अटकलों के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कुल 230 में से कांग्रेस 114-116 सीट पर जीत रही है. वहीं बीजेपी को 101-103 सीट मिलने का अनुमान है. उधर राजस्थान में विधानसभा की कुल 200 सीटों में से 127- 129 सीट कांग्रेस, तो 54-56 सीट बीजेपी को जा रही हैं, जबकि छत्तीसगढ़ में कुल 90 सीटों में से बीजेपी 43-45 पर, तो कांग्रेस के 38-40 सीट पर जीतने का अनुमान लगाया जा रहा है.
     सट्‌टा कारोबारियों का अपना नेटवर्क है, जो किसी राजनेता से भी ज़्यादा पैनी नज़र और समझ रखते हैं. ये लोग बाज़ार को समझ कर उम्मीदवार की हार-जीत, किसी भी दल को लेकर जनता की राय, समय से पहले भांप जाते हैं. इसी फीड बैक पर बाज़ार में पैसा लगता है. जो जीतने वाला होगा उसका भाव कम होता है, हारने वाले का ज्यादा. इससे जो हवा बनती है वो बाज़ार के साथ-साथ राजनीतिक गलियारों तक पहुंच कर माहौल को गरमा देती है.
     यहां ना कोई नेता बड़ा है और ना कोई छोटा. ना किसी पार्टी से मोहब्बत है, ना किसी से दुश्मनी. जो दमदार है उसी पर सट्‌टे का दांव है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, वसुंधरा राजे, डॉ. रमन सिंह सबकी सीटों का यहां आंकलन हो रहा है और भाव खुल रहे हैं. 10 पैसे से लेकर डेढ़ रुपये तक के भाव चल रहे हैं. कई मंत्रियों और हाई प्रोफाइल सीटों को लेकर जमकर दांव लग रहे हैं. जो सीटें सुरक्षित हैं उन्हें लेकर कोई हलचल नहीं है. मध्य प्रदेश के कई मंत्रियों की सट्‌टा बाज़ार हार बता रहा है.

Post a Comment

0 Comments