गलत फ़हमी में ना रहे... झुलसती गर्मी में भी नहीं मरता है कोरोना वायरस

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

गलत फ़हमी में ना रहे... झुलसती गर्मी में भी नहीं मरता है कोरोना वायरस

Will warm weather really kill off Covid-19? - BBC Futureपढ़ें ये बेहद चौंकाने वाला खुलासा… 
60 डिग्री तापमान में भी कोरोना वायरस जिंदा रह सकता है
रिचर्स में हुआ खुलासा
   कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया में अलग-अलग शोध हो रहे हैं. कुछ समय पहले दुनिया के कई वैज्ञानिकों ने कहा था कि कोरोना वायरस 30 डिग्री से ज्यादा तापमान में मर जाता है. यही वजह है कि हर कोई गर्मी आने का इंतजार कर रहा था. लेकिन इस बीच अब एक चौंकाने वाला खुलासा हो गया है. एक ताजा शोध में वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि 60 डिग्री तापमान में भी कोरोना वायरस जिंदा रह सकता है। 
    खुद वैज्ञानिक भी हैं हैरान दक्षिण फ्रांस की Aix-Marseille University की रिचर्स में यह खुलासा हुआ है कि इस वायरस पर गर्मी का भी कोई खास असर नहीं होता है। हमारे सहयोगी ज़ीबिज के अनुसार यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रेमी शेरेल और उनकी टीम कोरोना वायरस पर लगातार रिसर्च कर रही है। 
क्या हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन है असरदार?
   कोरोना वायरस को समझने के लिए हुए इस शोध में वैज्ञानिकों ने ये भी दावा किया है कि मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन कोरोना वायरस को मारने में बहुत ज्यादा कारगर नहीं है. फ्रेंच स्टडी में दावा किया गया है कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन से कोरोना पर बहुत ज्यादा असर नहीं होगा। 
   पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया (PHFI) के प्रमुख डॉ. के श्रीनाथ रेड्डी ने बातचीत में कहा कि कोरोना वायरस को टेंपरेचर सेंसिटिव कहा जा रहा है। लेकिन भारत इस पर शोध कर रहा है। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के संक्रमण के अपने अपने शोध हैं. भारत में आने के बाद इसका स्वरूप कैसा है इस पर रिपोर्ट्स आने बाकी हैं. हम अपने शोध के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंच पाएंगे। 
   उल्लेखनीय है कि अब तक देशभर में कोरोना संक्रमण के कई नए केस सामने आए चुके है। देशभर में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 25 हजार के पार पहुंच गया है।

Ad Code