भील प्रदेश की मांग को लेकर भारतीय ट्राइबल पार्टी व बीटीटीएस ने राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

भील प्रदेश की मांग को लेकर भारतीय ट्राइबल पार्टी व बीटीटीएस ने राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन

  BTP and BTTS
  बांसवाड़ा/राजस्थान।। राजस्थान के बांसवाड़ा जिले में भील प्रदेश की मांग तेज़ी से बढ़ती जा रही है। भील प्रदेश की मांग को लेकर आज कुशलगढ़ जिला बांसवाड़ा में भारतीय ट्राइबल पार्टी तथा बीटीटीएस द्वारा संयुक्त रूप से उपखंड अधिकारी कुशलगढ़ को भील प्रदेश की मांग को लेकर महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम बीटीपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य विजय भाई मईडा के नेतृत्व में ज्ञापन दिया गया। 
भील आदिवासी समाज की पूजा पद्धति की अपने आप में है अनोखी परंपरा
   मईड़ा ने जानकारी देते हुए बताया की संविधान के अनुच्छेद 3 के तहत पश्चिम भारत की भील आदिवासी सांस्कृतिक, भाषाई एवं ऐतिहासिक क्षेत्र के 43 जिलों का इलाका है, जिसमें चार राज्य राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात तथा महाराष्ट्र को मिलाकर आदिवासी भील प्रदेश बनाने की भौगोलिक स्थिति तथा यहां के आदिवासी समाज के रीति-रिवाज, संस्कृति तथा उनके पूजा पद्धति की अपने आप में अनोखी परंपरा आदिकाल से चली आ रही है। अर्थात यह समाज प्रकृति पूजक रहा है, आज भी प्रकृति में आस्था रखता है। इसलिए भारतीय ट्राइबल पार्टी तथा बीटीटीएस उक्त क्षेत्रों को मिलाकर आदिवासी राज्य की मांग करता है। 
   इस अवसर पर ज्ञापन देते समय उपस्थित जिला अध्यक्ष देवचंद मावी, छोटी सरवा मंडल अध्यक्ष जगदीश डिंडोर, बीटीटीएस जिला अध्यक्ष नारायण निनामा, ब्लॉक उपाध्यक्ष रमेश पणदा, छोटी सरवा मंडल उपाध्यक्ष शानू भाई विश्वनाथ, देवचंद मेंड़, कांतिलाल, कमलेश, कालू सिंह वड़किया, कालू सिंह सारेल, गेंदालाल, महेश बारी, कमलेश खड़िया, दलसिंह, मोहन, सुरेश, लक्ष्मण, सुनील, पंकज, बंटी सारेल, दिलीप भगोरा, नरेश, हालु, गोविंद जोड़ियां, मांगु निनामा, पूंजालाल, मुकेश, नारायण आदि कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Ad Code