विश्व का सबसे बड़ा संगठन बना RSS, 39 देशो में फैला नेटवर्क

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

विश्व का सबसे बड़ा संगठन बना RSS, 39 देशो में फैला नेटवर्क

RSS Network
  नई दिल्ली।। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी आएसएस का नेटवर्क अब 39 देशों में पहुंच चुका है। विदेशों में RSS की शाखाएं ‘हिंदू स्वयंसेवक संघ’ के नाम से लगती हैं। खास बात यह है कि आरएसएस का यह नेटवर्क अमेरिका और ब्रिटेन के अलावा मिडल ईस्ट के देशों में भी है। 
RSS Mohan Bhagwat International Network
रमेश संभाल रहे हैं जिम्मेदारी
  एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, संघ की शाखाएं 39 देशों में ऑर्गनाइज की जा रही हैं। इन शाखाओं का काम रमेश सुब्रमण्यम देखते हैं। रमेश ने 1996 से 2004 के बीच मॉरीशस में संघ की शाखाएं ऑर्गनाइज कीं। फिलहाल वे ‘सेवा’ नाम की एक संस्था से जुड़े हैं जो विदेशों में संघ के कार्यक्रमों के लिए फंड जुटाती है।]
RSS Network
 रमेश का कहना है कि हिंदू स्वयंसेवक संघ विदेशों में दूसरे हिंदू संगठनों के साथ मिलकर काम करती है। इनमें चिन्मय और रामकृष्ण मिशन प्रमुख हैं।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ क्यों नहीं?
  रमेश के मुताबिक, विदेशों में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की जगह हिंदू स्वयंसेवक संघ नाम इस्तेमाल किया जाता है। हिंदू शब्द का इस्तेमाल पूरी दुनिया के हिंदुओं को जोड़ने के लिए किया जाता है। संघ से करीब 40 दूसरे संगठन जुड़े हैं लेकिन रमेश के मुताबिक विदेशों में काम कर रहा हिंदू स्वयंसेवक संघ इन सभी से काफी बड़ा है।
RSS Mohan Bhagwat Network
कहां तक है नेटवर्क?
 जिन 39 देशों में शाखाएं लग रही हैं उनमें से पांच देश तो मिडिल ईस्ट के हैं। यहां मैदान की बजाए घरों में लोगइकट्ठा होते हैं। फिनलैंड में संघ की ई-शाखा लगाई जाती हैं। इसमें वीडियो कैमरे के जरिए करीब 20 देशों के संघ से जुड़े लोग शिरकत करते हैं।
 भारत के बाद नेपाल में संघ की सबसे ज्यादा शाखाएं लगती हैं। इसके बाद यूएस का नंबर आता है, जहां 146 जगहों पर संघ की शाखाएं लगती हैं। वैसे, संघ का दावा है कि यूएस में तो शाखाएं बीते 25 साल से लग रही हैं। यूएस में ये शाखाएं हफ्ते में एक बार लगती हैं जबकि ब्रिटेन में दो बार। ब्रिटेन में कुल 84 जगहों पर शाखाएं लगती हैं।
RSS International Network
शिप पर लगी थी पहली विदेशी शाखा
  जानकारी के मुताबिक, “1946 में संघ के दो स्वयंसेवकों मानेकभाई रुगानी और जगदीश चंद्रा ने मुंबई से केन्या के मोम्बासा जाते वक्त शिप पर संघ की पहली शाखा लगाई थी।” केन्या में यह सिलसिला 30 साल से जारी है। अफ्रीकी देशों जैसे तंजानिया और यूगांडा के अलावा साउथ अफ्रीका और मॉरीशस में भी संघ की शाखाएं काफी साल से लगती आ रही हैं।
RSS Rashtriya Swayam Sevak Sangh
विदेशों में यूनिफॉर्म भी अलग
  भारत में संघ की शाखाओं खाकी निकर और सफेद शर्ट पहनी जाती है लेकिन विदेशों में ब्लैक पेंट और व्हाइट शर्ट यूनिफॉर्म है। भारत में संघ की शाखाओं में ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाया जाता है लेकिन विदेशों में यह ‘विश्व धर्म की जय’ है।

Ad Code