Headline News
Loading...

Ads Area

कांग्रेस के प्रति लोगो का झुकाव पहुंचा 7 वे आसमान पर, एक सीट पर कांग्रेस में 15 दावेदार

3000 लोग दौड़ रहे जयपुर से दिल्ली, नौ-नौ घंटे हो रही बैठकें
     राजस्थान में लोगों का कांग्रेस के प्रति बढ़ते लगाव का आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि कांग्रेस से टिकट पाने की उम्मीद लगाने वालों की कतार में दिन ब दिन बढ़ोतरी हो रही है। दरअसल यह बात हम इसलिए कह रहा हैं क्योंकि राज्य के आगामी विधान सभा चुनाव में एक सीट पर कांग्रेस में 15 दावेदार हैं, इसके अलावा 3000 लोग जयपुर से दिल्ली की दौड़ लगा रहे और नौ-नौ घंटे बैठकें हो रही हैं I
     बता दें कि राज्य में विधान सभा की 200 सीटें हैं। सूत्रों के मुताबिक अब तक करीब 3000 लोगों ने कांग्रेस से टिकट पाने की अर्जी दी है। इनमें से अधिकांश नेता जयपुर से लेकर दिल्ली तक दौड़ लगा रहे हैं ताकि उनका टिकट पक्का हो सके। माना जा रहा है कि कांग्रेस एक दो दिन में राज्य में उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर सकती है। ऐसे में दावेदारों की भागदौड़ और तेज हो गई है। लगभग सभी दावेदारों ने किसी न किसी बड़े नेता को अपनी अर्जी और बायोडाटा सौंपी है। माना जा रहा है कि आज (शुक्रवार 12 अक्टूबर) प्रदेश चुनाव समिति की अध्यक्ष कुमारी शैलजा समिति के साथ उम्मीदवारों के नाम पर अंतिम चर्चा करेंगी। इसके बाद समिति द्वारा तय किए गए नामों की सूची पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति को भेजी जाएगी।
      आपको याद दिला दें कि उधर, दिल्ली में भी कांग्रेस के बड़े नेताओं ने राजस्थान चुनाव पर गुरुवार (11 अक्टूबर) को मैराथन बैठक की थी। दोपहर करीब 12 बजे शुरु हुई ये बैठक रात नौ बजे तक चलती रही। गुरुद्वारा रकाबगंज स्थित वार रूम में आयोजित बैठक में राज्य के चारों सह प्रभारियों ने अपनी रिपोर्ट सौंपी। बैठक में पार्टी महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, पार्टी प्रभारी अविनाश पांडे, चुनाव समिति की अध्यक्ष कुमारी शैलजा के अलावा चारों सह प्रभारी देवेन्द्र यादव, तरुण कुमार, विवेक बंसल और काजी निजामुद्दीन भी शामिल थे। बैठक में नेताओं ने चुनावी रणनीति पर संतोष जाहिर किया।
      चुनावी रैलियों में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ज्यादा से ज्यादा महिलाओं और युवाओं को टिकट देने की बात कही है। लिहाजा, महिला और युवा दावेदारों की संख्या अचानक बढ़ गई है। माना जा रहा है कि कांग्रेस 2013 के मुकाबले इस बार ज्यादा महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतार सकती है। पिछले चुनाव में पार्टी ने 23 महिलाओं को टिकट दिया था। इसी तर्ज पर पार्टी के युवा और अग्रिम संगठनों से जुड़े लोगों ने भी टिकट पर दावेदारी पेश की है। बता दें कि 2013 के विधान सभा चुनाव में कांग्रेस को मात्र 21 सीटें मिली थीं जबकि भाजपा ने 163 सीटें जीती थीं।

Post a Comment

0 Comments