गोवा बना देश का पहला कोरोना फ्री राज्य, ऐसे जीती जंग

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

गोवा बना देश का पहला कोरोना फ्री राज्य, ऐसे जीती जंग

   गोवा में कोविड-19 से संक्रमित एक भी मरीज नहीं हैं, सभी मरीज कोरोना को हराने में कामयाब हुए हैं. नियमों को सख्ती से लागू कर गोवा ने कोरोना वायरस से जंग जीत ली.
    गोवा में कोरोना वायरस से संक्रमित सभी सात मरीज इलाज के बाद ठीक हो गए हैं और सभी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. इस तरह से गोवा कोरोनावायरस को हराने वाला देश का पहला राज्य बन गया. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने रविवार को यह जानकारी दी. कोरोना संक्रमण के सात मामलों में से आख़िरी मामला तीन अप्रैल को सामने आया था और इलाज के बाद सभी व्यक्तियों के नमूनों की जांच नकारात्मक आने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.
    स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने ट्वीट किया, “हमें यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि गोवा में कोविड-19 से ग्रसित सभी मरीज ठीक हो गए हैं. अभी गोवा में एक भी व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं है.”
   विश्वजीत राणे ने कहा, “वर्तमान में जब राज्य में कोई भी व्यक्ति संक्रमित नहीं है तो हमें लॉकडाउन का महत्व समझना होगा, सामाजिक दूरी बनाए रखनी होगी, अधिक जांच करनी होगी. केंद्र और राज्य सरकारों के नियम का पालन करना होगा.” विश्वजीत राणे ने डॉक्टरों समेत मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, मुख्य सचिव परिमल राय और स्वास्थ्य सचिव नीला मोहनन को धन्यवाद दिया.
   वहीं गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने भी ऐलान किया कि राज्य में कोरोना संक्रमण के एक भी सक्रिय केस नहीं हैं. पहले से जो 7 लोग संक्रमित थे वो पूरी तरह से ठीक होकर डिस्चार्ज हो गए हैं. 
    सीएम प्रमोद सावत ने ट्विटर पर लिखा, “गोवा के लिए यह राहत और संतुष्टि भरा समय है, जहां कोरोना वायरस के आख़िरी पॉजिटिव मरीज स्वस्थ होकर अपने घर चले गए है. डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की टीम इसके लिए तारीफ के पात्र हैं. तीन अप्रैल के बाद गोवा में कोई भी नया मामला सामने नहीं आया है.”
   गोवा उन राज्यों में से एक था जिसने लॉकडाउन का पालन तब से किया, जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू का आह्वान किया था. उससे पहले भी गोवा अपने यहां आने वाले यात्रियों की टेस्टिंग और होम क्वारनटीन की प्रक्रिया पर आगे बढ़ काम करना शुरू कर दिया था.
   पीएम मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का आह्वान किया था. 23 और 24 मार्च को गोवा ने इस कर्फ्यू को बढ़ा दिया था. राज्य में लोगों को घरों से बाहर निकलने की मनाही थी, लोग अपने-अपने घरों में आइसोलेट रह रहे थे. वहीं बाहर से गोवा आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग कराई जा रही थी, थर्मल टेस्ट किया जा रहा था. संक्रमण बढ़ा तो सीएम प्रमोद सावंत ने यह तय किया कि राज्य की सीमाओं को सील करना ज्यादा जरूरी है.
   गोवा में कुल संक्रमितों की संख्या सात थी और सात पर ही सिमट गई. जो लोग संक्रमित थे, उनसे जुड़े लोगों की पूरी ट्रेसिंग की गई. ज्यादा से ज्यादा लोगों को होम क्वारनटीन किया गया. राज्य सरकार की इन तमाम प्रयासों के दम पर गोवा ने कोरोना से जंग जीत ली.

Ad Code