दावा: एक्सरे और सीटी स्कैन से भी कोरोना संक्रमितों की पहचान संभव

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

दावा: एक्सरे और सीटी स्कैन से भी कोरोना संक्रमितों की पहचान संभव

    नई दिल्ली।। कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों में 87.9 फीसदी में बुखार, 67 फीसदी में सूखी खांसी और 38 फीसदी लोगों में थकान जैसे लक्षण दिखते हैं। ऐसे मरीजों की जांच और मर्ज की पहचान के लिए छाती के एक्सरे और सीटी स्कैन को भी महत्वपूर्ण जरिया बताया गया है। 
    विश्व स्वास्थ्य संगठन के शोध के आधार पर नई दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने मरीजों की पहचान के लिए 17 क्लीनिकल फीचर को आधार बनाया है। एम्स की ओर से तैयार किए गए 17 मुख्य बिंदुओं में 15 लक्षण शामिल किए गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन को चीन में 55924 कोरोना पीड़ित मरीजों पर अध्ययन के दौरान ये लक्षण दिखे थे। 
सीटी स्कैन से 86% मरीजों की पहचान : 
   न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे एक शोध के मुताबिक छाती के सीटी स्कैन से 86 फीसदी मरीजों की पहचान की जा सकती है। इसके अलावा 56 फीसदी लोगों में छाती के एक्सरे से संदिग्ध कोरोना मरीज की पहचान की जा सकती हैं। एम्स ने अपने मरीजों की पहचान के लिए क्लीनिकल फीचर में ऐसी जांच को भी शामिल किया है। 
ऐसे भी लक्षण : 
    अध्ययन में यह पाया गया है कि पांच फीसदी से कम लोगों में चक्कर आना या उल्टी नाक बंद होना, दस्त, बलगम में खून, आंखों में जलन या सूजन और फेफड़ों में पानी भरना जैसे लक्षण भी देखे गए। 
पहले सात लक्षण बताए थे : 
    अप्रैल महीने में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस से संक्रमित होने के सात प्रमुख लक्षण गिनाए थे। तब बताया था कि 88 फीसदी मरीजों में बुखार, 68 फीसदी में खांसी, 38 फीसदी में थकान, 18 फीसदी में सांस लेने में तकलीफ, 14 फीसदी में शरीर और सिर में दर्द, 11 फीसदी में ठंड लगना और 4 फीसदी में डायरिया के लक्षण दिखाई देते हैं।

Ad Code