पाकिस्तान में हिंदू अपना अंतिम संस्कार कहाँ करते हैं?

Breaking News

10/recent/ticker-posts

Ad Code

पाकिस्तान में हिंदू अपना अंतिम संस्कार कहाँ करते हैं?

  क्या पाकिस्तान में हिन्दुओं को चेन से मरने का भी अधिकार नहीं है?
  लाहौर/पाकिस्तान।।  ये अपने आप में एक आश्चर्य की बात है और दुःख की बात भी है कि पाकिस्तान में 80 प्रतिशत हिंदू शवों को दफ़नाते है। वे उनका दाह संस्कार नहीं करते हैं। ये कराची का एक 100 साल से भी ज्यादा पुराना 22 एकड़ में फैला हिंदुओं का श्मशान घाट है।
Cemeteries in Pakistan for Hindus
शवों को दफनाने का तरीका मुसलमानों से  है अलग
  जहाँ हिंदू शवों को दफ़नातें हैं लेकिन शवों को दफनाने का तरीका मुसलमानों से अलग है। पहले वो शव का थोड़ा सा हिस्सा जलाते है जैसे पैर या हाथ का और फिर शव को कमल की पोजीशन में बिठा कर दफ़नाते हैं।गड्ढे का आकार भी आयताकार न हो कर गोल होता है।और कब्र भी ऊपर से शंकु के आकार की होती है।
वहाँ हिन्दू शवों को क्यों दफ़नाते हैं? इसके पीछे क्या कारण है चलिए इसे भी तलाश करते हैं-
हिन्दुओं को दफ़नाने का रिवाज़ कैसे बन गया 
  पाकिस्तान में करीब 7 मिलियन हिन्दू रहते हैं (ये संख्या भी काफ़ी विवादित है, पाकिस्तान हिंदू काउन्सिल का दावा है ये संख्या 8 मिलीयन है और 1998 की जनगणना के अनुसार 2.4 मिलीयन है।) उनमें से ज्यादातर सिंध (ये पाकिस्तान का दूसरा सबसे बड़ा प्रांत है, और इसकी सीमा गुजरात और राजस्थान से मिलती है) के दक्षिण भाग में रहते हैं। ये थार रेगिस्तान का क्षेत्र है। साल 1899 में यहाँ भयंकर सूखा पड़ा था और पेट भरने तक के लाले पड़ गए थे। तबसे वहाँ हिंदुओं ने शवों को दफनाना शुरू कर दिया और ये प्रथा आज तक जारी है।
ज्यादातर हिंदू ग़रीब दलित समुदाय से
   पाकिस्तान में ज्यादातर हिंदू दलित समुदाय से हैं जो काफी गरीब हैं। दाह संस्कार में करीब 8 से 15 हजार तक का ख़र्चा आ जाता है, जो वे वहन नहीं कर सकते और ये तो तब है जब श्मशान घाट घर के नजदीक है। अगर दूर है या दूसरे शहर में है तो ट्रांसपोर्ट का खर्चा अलग से हो जाता है।
हिंदू श्मशान घाटों की कमी
   पाकिस्तान में हिंदुओं के लिए श्मशान घाटों की संख्या बहुत कम है। अगर हम कराची जैसे बड़े शहर की बात करे तो वहाँ 250000 हिंदुओं के लिए सिर्फ़ एक श्मशान घाट है वो भी आज़ादी से पहले का बना हुआ है। यहाँ तक की कुछ स्थानों पर तो अंतिम संस्कार करने के लिए सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा करनी पड़ती है। लाहौर में देश की आज़ादी से पहले 12 श्मशान घाट थे अब वहाँ एक भी नहीं है। 1947 में क़रीब 1200 हिंदू परिवार वहाँ रहते थे। धीरे-धीरे सब दूसरी जगह चले गए और अब सिर्फ़ यहाँ 6 परिवार रहते हैं।
   "In Lahore alone, there were about 12 cremation grounds before Independence. But not even a single facility exists at present. After Independence, there were 1,200 Hindu families living in Lahore which now has come down to six families,"
  अगर इस्लामाबाद की बात करे तो वहाँ भी कोई शमशान घाट नहीं है। वहाँ क़रीब 158 हिंदू परिवार रहते हैं, लेकिन उनको अंतिम संस्कार के लिए सिंध जाना पड़ता है।
   ख़ैबर्पख्तूनख्वा में भी ठीक ठाक संख्या में हिन्दू है, लेकिन वहाँ भी श्मशान घाट ना के बराबर है। कोहाट में एक है। मरदान और बुनेर में एक-एक श्मशान घाट है। एक श्मशान घाट आटोक नदी (ये सिंधु नदी की सहायक नदी है) के पास है। लेकिन वहाँ तक पहुँचने की हिम्मत बहुत कम लोग ही कर पाते हैं। पेशावर से आटोक नदी तक की यात्रा पर 15000 रुपये का खर्च आता है और दाह संस्कार का पूरा खर्चा 40000 के आसपास आता है और ज्यादातर हिन्दू तो पाकिस्तान में ग़रीबी की रेखा से नीचे ही रहते हैं।
एक सिक्के को जलाकर शव की हथेली पर बना देते हैं निशान 
   गरीबी इस कदर है कि ज्यादातर हिंदुओं को ना चाहते हुए भी शवों को आसपास की कब्रगाह में दफनाना पड़ता है। बन्नु, हंगू, डेरा इस्माइल खान और मलकन्द में काफी हिन्दू ये ही कर रहे है। अपने आप को संतुष्ट करने के लिए एक सिक्के को जलाकर शव की हथेली पर निशान बना देते हैं।
स्थानीय मुस्लिम निवासी राजनीति कर करने लगते है विरोध 
   अगर हिंदुओ को किसी तरह श्मशान घाट बनाने के लिए जमीन आबंटित भी हो जाती है तो वहाँ के स्थानीय मुस्लिम निवासी उसका विरोध करने लगते है, कि ये लोग तो वातावरण खराब कर देंगे, दुर्गन्ध फैल जाएगी।पेशावर के एमपीए (जैसे हमारे यहाँ एमएलए होते हैं) सरदार सोरन सिंह कहते हैं-
  "Peshawar is a crowded city and it would create problems if a cremation site is established.”A foul smell will spread through the city,”
   ऐसा वो इसलिए कहते हैं क्योंकि बहुसंख्यक समुदाय के कट्टर लोग इसका विरोध करने लगते है, और हिन्दुओं की नुमायंदगी करने वाले भी दबाव में आ जाते हैं।
क्या है मुश्किलें?
  जो हिन्दू थोड़ी बहुत अच्छी आर्थिक स्थिति में है और शवों का दाहसंस्कार करते हैं उनको भी अस्थियां विसर्जित करने में दिक्कत आती है। विसर्जन के लिए रखे हुए अस्थि कलशों की संख्या भी यहाँ तेजी से बढ़ती ही जा रही है।
Cemeteries in Pakistan for Hindus
सिंधु नदी में करते है अस्थियों का विसर्जन 
   वैसे तो काफी हिन्दू सिंधु नदी में ही अस्थियों का विसर्जन कर देते हैं लेकिन जो हिंदू चाहते है कि गंगा नदी में अस्थियां विसर्जित होनी चाहिए उनको काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। अस्थियां विसर्जन के लिए हमेशा से ही भारत का वीजा मिलना मुश्किल होता था और अब तो जिस तरह के संबंध भारत और पाकिस्तान के बीच है उसको देखते हुए हिंदुओं के लिए वीजा मिलना लगभग नामुमकिन हो गया है।

(Exclusive Report By News Today Time)

Ad Code